विवाह की पेचीदगियां-कुछ कहा, कुछ अनकहा

रूचा जोशी रेवा और अविनाश पेशेवर बैठकों में मिले और तुरंत एक-दूसरे के प्रति झुकाव महसूस किया ओर आकर्षित हुए।

और पढ़ें >

बिहार चुनाव- जमीनी मुद्दों की रिपोर्टिंग के लिए फेलोशिप

इस बिहार चुनाव में जमीनी मुद्दों की रिपोर्टिंग करने वाले स्वतंत्र पत्रकारों का समर्थन करने के लिए सेंटर फ़ॉर रिसर्च

और पढ़ें >

विश्व के सबसे सफल संचारक थे गांधी- प्रो. रजनीश कुमार शुक्ल

बदलाव प्रतिनिधि नई दिल्ली, 1 अक्टूबर । ”संचार के उद्देश्यों की बात की जाए, तो गांधी विश्व के सबसे सफल

और पढ़ें >

वंचित तबके को साक्षर बनाने का सपना कौन ‘चर’ गया?

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर  बिहार में जब पहला चरवाहा विद्यालय खुला  तब राज्य के  प्रबुद्ध लोग इसका मखौल उड़ाने लगे थे।

और पढ़ें >

चरवाहा विद्यालय के सपने को कौन चर गया ?

ब्रह्मानंद ठाकुर बिहार में का विधानसभा चुनाव का ऐलान भले ही अभी नहीं हुआ है लेकिन चुनावी बयार बहने लगी

और पढ़ें >

शहर छोड़ गांव में खुशहाली की फसल उगा रहे अश्विनी शर्मा

विमलेश शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार, जयपुर अच्छी नौकरी और शहर में आलीशान बंगला..आज हर युवा की यही चाहता रहती है, लेकिन

और पढ़ें >

परिवारवाद में दम तोड़ती कांग्रेस की बहुरंगी विरासत

पुष्यमित्र इस देश में वैसे पार्टियां तो कई हैं, बड़ी भी और छोटी भी। मगर कोई अल्पसंख्यकों को मायनस करके

और पढ़ें >

खेती करने वाले विधायक मनोहर रंधारी का मुरीद पूरा देश

बदलाव प्रतिनिधि, ओडिशा कंधे पर हल, हाथ में फावड़ा और खेत में धान की रोपाई करने वाला ये शख्स कोई

और पढ़ें >

मन की गांठें खोल रे मनुआ… पढ़ ले ‘जीवन संवाद

मोहन जोशी अमूमन ये देखने में आता है कि रचनाकार अपने लेखक होने के गुमान को ओढ़े रहता है और

और पढ़ें >