Author Archives: badalav

मेरा गांव, मेरा देश

कोरोना संकट से कैसे निपट रहे हैं राज्य ?

टीम बदलाव कोरोना संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने करीब लाख करोड़ का राहत पैकेज दिया है तो वहीं राज्य भी संकट की इस घड़ी में अपनी जनता…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

कोरोना संकट: शहर में चूके, गांव में मत चूकना

कोरोना से लड़ने के लिए 25 मार्च से देश में जो लॉकडाउन लगाया गया वो 72 घंटे भी नहीं टिक सका। 27 से 28 मार्च के बीच पलायन को मजबूर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

भूखों के साथ सिस्टम को भी चाहिए तैयारी का दाना-पानी

अरुण प्रकाश कोरोना संकट को लेकर लॉकडाउन के चौथे दिन दिल्ली से जो तस्वीरें सामने आईं वो बेहद खौफनाक और दिल का झकझोर देने वाली थीं । हजारों की संख्या…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बस 72 घंटों में टूट गया कोरोना का लॉकडाउन… निकल पड़े अपने गांव

अरुण प्रकाश लॉकडाउन का तीसरा दिन। देश के अलग-अलग हिस्सों से गरीबों की मदद करते पुलिसवालों और आम लोगों की तस्वीरें सामने आ रही थीं। मन को सुकून मिल रहा…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

लॉकडाउन के दूसरे दिन- कोरोना पर तैयारी थोड़ी और पक्की दिखी

अरुण प्रकाश कोरोना में देशव्यापी बंद का आज दूसरा दिन रहा। पहले दिन के मुकाबले दूसरे दिन लोग ज्यादा संयमित नजर आए। जिन दुकानों पर कल तक सामान लेने की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

लॉकडाउन आपके लिए है… इसका पालन करेंगे तो जिंदगी चलती रहेगी…

बदलाव के लिए अरुण प्रकाश की रिपोर्ट पूरी दुनिया कोरोना संकट से जूझ रही है। अलग-अलग देश अपन-अपने तरीके से इससे निपटने की हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं ।…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

कोरोना की जंग में बिना तैयारी वाले मीडिया के लड़ाके

महेंद्र सिंह के फेसबुक वॉल से साभार अब मीडिया वालों के घर भी corona पहुंच चुका है, फिर भी कुछ मीडिया संस्थान अभी नहीं समझ रहे हैं, भोपाल में जिस…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

धार्मिक दंगे भारतवर्ष का पीछा कब छोड़ेंगे ? -भगत सिंह

23 मार्च भगत सिंह का शहादत दिवस है। 1931 में इसी दिन भारतीय आजादी आंदोलन की गैरसमझौतावादी धारा के इस जांबाज क्रांतिकारी को फांसी के फंदे पर झुला दिया गया…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘स्टालिन मुर्दाबाद’ वाले कन्हैया कुमार आपसे कुछ सवाल हैं!

ब्रह्मानंद ठाकुर स्टालिन कन्हैया कुमार जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार को जब एक दिन इलेक्ट्रानिक मीडिया के समक्ष स्टालिन मुर्दाबाद कहते सुना तो मैं चौंक गया। आखिर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

गोवा और कार्टूनिस्ट मारियो मिरांडा का ‘अमर प्रेम’

शरद अवस्थी मौज-मस्ती..बेफिक्री...सुकून और नाईट लाइफ को जीने की जगह है गोआ...जहां रात को 12 बजे भी सड़कों से गुजरने में डर नही लगता...लेकिन इसी गोवा ने कला और संगीत…
और पढ़ें »