Author Archives: badalav

मेरा गांव, मेरा देश

बहस-मुबाहिसों में हाशिए पर क्यों गांधी और गांधीवाद?

पशुपति शर्मा गांधी को लेकर अपने एहसास की बात मैं आइंस्टीन के एक कथन से शुरू करता हूं जिसका जिक्र लुई फिशर ने 'गांधी की कहानी' पुस्तक में किया है।…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

अंधविश्वास और बाज़ारवाद के मायाजाल से घिरी आस्था

ब्रह्मानंद ठाकुर धनरोपिया खतम हो जाने से घोंचू भाई अब पूरी तरह से फुर्सत में हैं। इधर दू- चार दिन से टिप-टाप और बीच-बीच में झमकउआ मेघ बरसते रहने से टोला के…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

पत्रकारों से सवाल-जवाब का ‘अटल’ नाता

फाइल फोटो राधे कृष्ण मैं खुद को बेहद सौभाग्यशाली मानता हूं कि मुझे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के साथ चार बार इंटरव्यू करने का मौका मिला। अटल जी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बिल्डिंग तैयार है… 2 साल से डॉक्टर का इंतजार

गोरखपुर में एम्स बन रहा है । देवरिया जिले में मेडिकल कॉलेज बनाने का ऐलान हुआ है । हालांकि ये मेडिकल कॉलेज देवरिया जिले के सलेमपुर लोकसभा, बलिया और घोसी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

एशिया में नफ़रत से आज़ादी की जंग बाकी है!

पुष्यमित्र लाल किले से पीएम मोदी, सौजन्य डीडी वैसे तो बचपन से लेकर आज तक हमने कभी सोचा नहीं कि 15 अगस्त की तारीख का इसके सिवा और क्या महत्व…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

सरकार की मजबूती की कीमत लोकतंत्र चुकाता है !

सौजन्य डीडी राकेश कायस्थ सत्तर साल के भारत को देखें तो लोकतंत्र के लिहाज से आपको कौन सा दौर सबसे सुनहरा नज़र आता है? शुरू के डेढ़ दशक छोड़ दें क्योंकि…
और पढ़ें »
चौपाल

मीडिया को फिर से पत्रकारिता बनाने की लड़ाई कलम के नाम उधार है

ब्रह्मानंद ठाकुर अपने देश के मीडिया जगत में इन दिनों जो घटनाएं घट रही हैं, वह आकस्मिक नहीं कही जा सकती। इसका ताना-बाना तो काफी पहले ही बुना जा चुका…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

समान और मुफ्त शिक्षा के लिए क्रांति

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर क्रांति दिवस, 9  अगस्त 1942 की 76वीं वर्षगांठ पर मुजफ्फरपुर शहर के छात्रों, शिक्षकों, बुद्धिजीवियों एवं समाजसेवियों ने देश भर में समान और मुफ्त शिक्षा प्रणाली लागू…
और पढ़ें »
आईना

‘सियासी समर’ से पहले ‘युद्ध में अयोध्या’

प्रणय यादव हेमन्त शर्मा जी की नई पुस्तक पाठकों के हाथ में आने वाली है, नाम है " युद्ध में अयोध्या "। पुस्तक आने से पहले ही इतनी चर्चा में…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

आपके हिस्से की हंसी, ख़ुशी, सुगंध, मिठास मुबारक हो

अपने जन्मदिन पर मृदुला शुक्ला की फेसबुक पोस्ट मेरा पैदा होना पत्थर पर जमी दूब नहीं था न ही सिल पाथर धोकर पाया होगा मेरी माँ ने मुझे। मेरा पैदा…
और पढ़ें »