Author Archives: badalav

मेरा गांव, मेरा देश

आदर्श गांव पर आपकी रपट – आंखिन देखा सच

डा. सुधांशु कुमार आज अतिवाद के दौर में अधिकांश 'मीडिया हाउस' पूंजीवाद , सत्ता एवं विदेशी विघटनकारी शक्तियों के इशारों पर नाच रहे हैं ! पक्ष और विपक्ष के झमेले…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

‘एक दिन के मेहमान’ के मेजबानों का शुक्रिया

पशुपति शर्मा   अभिनेता, नाटकों के बाद हमेशा आत्ममुग्ध हो जाया करते हैं। कभी-कभी मैं भी इसका शिकार हो जाता हूं। लेकिन मुझे इसका बखूबी एहसास है कि रंगमंच एक…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

हिक्की, हरीश चंद्र मुखर्जी और कोलकाता की पत्रकारिता

पुष्यमित्र इस साल पत्रकार और मित्र विनय तरुण की याद में आयोजित समारोह में भाग लेने के लिए हमलोग 24 जून को कोलकाता में जुट रहे हैं। विषय है, ‘अतिवाद के दौर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

फुल और हॉफ स्टेट थ्योरी: क्या है दिल्ली का चक्रव्यूह ?

आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरिवाल ने हाल ही में विधानसभा का एक खास सेशन बुलाया जिसका एजेंडा था दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

महोबा की जलमुहिम के नायक तारा पाटकर

  कीर्ति दीक्षित विरोध प्रदर्शनों की मानव श्रृंखलाएं हमने बहुत देखीं, पर आज ये तस्वीरें देखिये और इनमें मुस्कुराती मानव श्रृंखलाओं को आत्मसात कीजिए, क्योंकि  समाज उत्कृष्टता सरकार के कालों…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

जब पिता मेहमान बनकर अपने ही घर पहुंचा

प्रतिभा ज्योति 'एक दिन का मेहमान' जैसे ही घर आता है, तनाव पसर जाता है. घर की बच्ची चुपचाप है और घर की औरत दूसरे फ्लोर पर अपने कमरे में…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

ये सिर्फ शुजात की हत्या नहीं, कश्मीर में ‘अमन’ का कत्ल है- उर्मिलेश

वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश के फेसबुक वॉल से रमजान का महीना खत्म होते ही एक बार फिर सरकार ने कश्मीर घाटी में ऑपरेशन ऑल आउट का फैसला किया है । हालांकि…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘द्रव्य’ दुकान और मोहल्ले की अटूट दोस्ती

सांकेतिक तस्वीर- साभार अमित वीरेन नंदा किस्सागोई के पहले अंक में आपने पढ़ा पति-पत्नी के बीच की मीठी नोकझोंक जिसमें प्यार भी रहता है और टकराव भी । कैसे जब…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

ग़ाज़ियाबाद में आज ‘एक दिन के मेहमान’ का मंचन

  गाजियाबाद के इंद्रप्रस्थ इंजीनियरिंग कॉलेज में आज दिनांक 17 जून दिन रविवार की शाम 7 बजे एक दिन का मेहमान की प्रस्तुति की जा रही है। संस्कृति मंत्रालय, केंद्र…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

पूर्णिया के सांसद संतोष कुशवाहा के गोद लिए गांव का हाल

गोविंद कुमार कहते हैं बदलते वक्त के साथ आदमी के रहन-सहन, विचार पूर्णिया के सांसद संतोष कुशवाहा व्यव्हार,पठन -पाठन तक अनेक बदलाव और विस्तार हुये हैं। इस बदलाव से सियासत…
और पढ़ें »