Author Archives: badalav

मेरा गांव, मेरा देश

सियासी ‘महाभारत’ के बाद शालीनता का शांतिपर्व

पीयूष बबेले के फेसबुक वॉल से साभारएक महीने के शोर शराबे और हद दर्जे के आक्रामकप्रचार अभियान के बाद पांच राज्यों की चुनावी महाभारत अपनी परिणिति को पहुंच गई। यहअब…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

ये पब्लिक है, सब जानती है !

उर्मिलेश / पहले पनगढ़िया साहब ने साथ छोड़ा। फिर अरविंद सुब्रह्मण्यम गये! रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने भी साथ छोड़ा! और तो और भल्ला साहब भी चले गये!…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

राम नाम की ‘सियासी माया’ और आस्था की जमीनी हकीकत

निखिल दुबे के फेसबुक वॉल से साभार समाज और सियासत की NO PARKING में खड़े कर दिए गए हैं भगवान। एक मासूम और सफाई कर्मी के लिए इनमें और कूड़े…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

खर्राटामय ‘संगीत’ और प्रयागराज का यादगार सफर

सांकेतिक तस्वीर शरद अवस्थी के फेसबुक वॉल से साभार   रातके लगभग 12 बजने को आए, प्रयागराज एक्सप्रेस केबी1 कोचकी मिडिल बर्थ पर लेटा मैं बेचैनी से करवटें बदल रहा था,…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

किसानी छोड़ मजदूर बनने को मजबूर अन्नदाता

ब्रह्मानंद ठाकुर लाईन जब कट गया तब बदरुआ,  फुलकेसरा और बटेसर अप्पन-अप्पन टिन हीं छिपा खेत के आडी पर रख मनकचोटन भाई के बोरिग के बगल वाले चबुतरा पर बिछाएल…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘जयश्री राम’ ना हो जाए जेएनयू की गरिमा

प्रेमकुमार मणि के फेसबुक वॉल से साभार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में 5 दिसम्बर को सुबह 9 बजे आरएसएस संरक्षित स्वदेशी जागरण मंच की श्रीराम मंदिर संकल्प रथयात्रा जत्थे ने…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

खुशहाली के ख्‍वाब और ‘रेगिस्‍तान’!

फाइल फोटो- साभार गूगल दयाशंकर जी के फेसबुक वॉल से साभार ‘डियर जिंदगी’ को देशभर से पाठकों का स्‍नेह मिल रहा है. हमें हर दिन नए अनुभव, प्रतिक्रिया मिल रही…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मेरा बचपन और मेरा गांव

ब्रह्मानंद ठाकुर होश संभालते ही देखा  शीशम के खम्भे पर टिका फूस का घर । बाहर से टाटी से घिरे घर के दरबाजे पर शीशम के मोटे तख्ते  से बनी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

जब देश के पहले राष्ट्रपति को झेलना पड़ा दहेज प्रथा का दंश

ब्रह्मानंद ठाकुर बात आज से   102  साल पहले की है। राजेन्द्र बाबू  1916 में कलकत्ता ( अब कोलकाता ) से वकालत की पढ़ाई पूरी कर  वकालत करने पटना  आ चुके थे।…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

देवरिया की वंदना के ‘गुनहगारों’ पर कब एक्शन लेगी पुलिस?

बदलाव प्रतिनिधि, देवरिया दुल्हन की तरह सजी वंदना ये तो सोचा न था- ससुराल में पिटाई के बाद की तस्वीर। देवरिया की एक बेटी की ज़िंदगी शादी के महज 3…
और पढ़ें »