Author Archives: badalav

मेरा गांव, मेरा देश

हिंदुस्तान में किसानों की ‘नवंबर क्रांति’

ब्रह्मानंद ठाकुर आजादी से 70 साल बाद हिंदुस्तान का अन्नदाता बदहाल है, देश का पेट भरने वाला किसान खुदकुशी को मजबूर है, फिर भी 7 दशक से हमारी सरकारें किसानों…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

आत्मवंचना

अखिलेश्वर पांडेय शाबासी की सीढ़ीयां चढ़ते हुए पहुंच गया हूं उस मुकाम पर जहां से सिर्फ भीड़ दिख रही आंखें पारदर्शी हो गयी हैं होठ चुप हैं कानों में 'स्व'…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बापू के हत्यारों की सोच आज भी जिंदा है !

फाइल फोटो अजीत अंजुम इस देश में बहुत बड़ी जमात ऐसी है, जिन्हें गांधी के हत्यारों में अपना आदर्श नजर आता है । उन्हें कठघरे में बैठे गांधी के इन…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

रूस की समाजवादी शिक्षा-व्यवस्था दुनिया के लिए बनी मिसाल

ब्रह्मानंद ठाकुर भारत की आजादी के 70 दशक हो चुके हैं फिर भी हमारी सरकारें देश की जनता को शिक्षा और स्वस्थ्य का समान अधिकार देने में नाकाम रहीं हैं।…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

करणी सेना ने कर दी करोड़ों की ‘लीला’

‘ पद्मावती फिल्म में अलाउद्‌दीन एक धूर्त्त, अहंकारी, कपटी, दुश्चरित्र और रक्तपिपासु इंसान की तरह चित्रित है। वह अपने चाचा सम्राट जलालुद्‌दीन की हत्या करता है, अपनी चचेरी बहन से…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

पूर्णिया के सरवर ने छत पर ला दी बहार

बासु मित्र कहते हैं जहां चाह होती है, राह खुद ब खुद मिल जाती है। बिहार के पूर्णिया जिले के सबसे व्यस्ततम इलाके लाइन बाजार में जहां इंच-इंच जमीन की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

हाईब्रिड से पैदावार बढ़ी, लेकिन जमीन की उर्वरता पर असर

ब्रह्मानन्द ठाकुर 21वीं सदी का हिंदुस्तान तेजी से आगे बढ़ रहा है, लेकिन देश का किसान इस रेस में पिछड़ता जा रहा है यही नहीं किसानों के साथ-साथ जमीन की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘अंतरात्मा की पीड़ित विवेक-चेतना’ के कवि को अलविदा

उदय प्रकाश 'आत्मजयी' वह कविता संग्रह था, जिसके द्वारा मैं कुंवर नारायण जी की कविताओं के संपर्क में आया. तब मैं गाँव में था और स्कूल में पढ़ता था. 'आत्मजयी'…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मजदूरों की क्रांति से बदला रूस का इतिहास

फोटो- साभार विकीपीडिया ब्रह्मानंद ठाकुर नवंबर क्रांति के पहले अंक में आप ने पढ़ा कि कैसे फरवरी 1917 से लेकर नवंबर 1917 के बीच रूस में किसानों और मजदूरों की…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

फल और सब्ज़ियों के दोस्ती की कहानी

चित्रलेखा अग्रवाल एक समय था जब फल और सब्जियां अलग अलग रहते थे। दोनों में दोस्ती कायम करने में चेरी और शिमला मिर्च का बहुत बड़ा योगदान है। कैसे? जानने…
और पढ़ें »