Author Archives: badalav

मेरा गांव, मेरा देश

अपनी पहचान खोता विदिशा का बासौदा नगर

पुरु शर्मा क्या वास्तव में हमारा शहर ऐसा ही था ? जैसी आज उसकी छवि पूरे प्रदेश में बन चुकी है, आप बोलेंगे नहीं हमारा बासौदा तो वो शहर था…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

चमकी बुखार की रिपोर्ट- नौनिहालों की मौत रोकने की एक कोशिश

ब्रह्मानंद ठाकुर मुजफ्फरपुर और इसके आस- पास के  जिले वैशाली, सीतामढी, समस्तीपुर, शिवहर आदि प्रति वर्ष अप्रैल और मई महीने में चमकी बुखार के प्रकोप से प्रभावित होते रहे हैं।…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘ जंगली फूल’ और ‘साक्षी है पीपल’ की लेखिका यालाम का सम्मान

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर अरुणाचल प्रदेश की हिन्दी लेखिका जोराम यालाम नावाम को उनके उपन्यास ' जंगली फूल' और कथा संग्रह 'साक्षी है पीपल' के लिए 12 वां अयोध्या प्रसाद खत्री…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

भेड़ियों से घिरी बेटियां

पशुपति शर्मा के फेसबुक वॉल से साभार भेड़िया आया-भेड़िया आयावाले किस्से सेहमने बचपन मेंसीखा था सबकबार-बार का झूठकितना खतरनाक होता है! इंसानी बस्तियों सेखत्म हो गईभेड़ियों की प्रजातिये भी कम…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बदलाव के रास्ते ‘उम्मीद की पाठशाला’ का सफर

शिरीष खरे उम्मीद की पाठशाला एक किताब भर नहीं बल्कि एक दस्तावेज है, जिसमें गोवा, महाराष्ट्र, मध्य-प्रदेश और छत्तीसगढ़ के दूर-दराज के अंचलों से शिक्षा में नवाचार व बदलाव के…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बाजारवाद के बीच जिंदा है ‘उम्मीद की पाठशाला’

बदलाव प्रतिनिधि इसी देश में जहाँ मध्यवर्ग के बच्चे एसी कमरे में ठाठ से पढ़ाई ही नहीं करते बल्कि उन्हें इस देश का विशिष्ट विद्यार्थी होने का काम्प्लेक्स भी घुट्टी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

जिंदा रहेगा जेएनयू

पशुपति शर्मा के फेसबुक वॉल से साभार तुम जिसेकुचलनेमसलनेऔर मिटा देने परआमादा हो...वो याद आएगाहमेशावो जिंदा रहेगाहमेशा जब कभीजुल्मो-सितम सेतुम छटपटाओगेवो याद आएगाजब कभीमालिकों से सताए जाओगेवो याद आएगाजब कभीनेताओं…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

JNU को समझो और फिर जी चाहे तो लाठी बरसा लेना यारों!

रविकांत जेएनयू एक बार फिर से सुर्खियों में है। जेएनयू में न सिर्फ तीन सौ प्रतिशत फीस वृद्धि की गयी है बल्कि मैस मैनुअल्स को लेकर भी जेएनयू छात्रसंघ और…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

सरकार कारोबारी बन रही है, JNU की जंग के मायने समझें

पुष्यमित्र अभी जिस ट्रेन से देहरादून से लौट रहा था, वह ट्रेन हावड़ा तक जाती है। जाहिर सी बात है, ट्रेन में कई बंगाली यात्री भी थे। पेन्ट्री कार के…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

शिक्षा का बाजारीकरण एक डरपोक, अवसरवादी और भ्रष्ट समाज पैदा करता है!

पुष्य मित्र JNU छात्रों के आन्दोलन के बीच कुछ लोग IIT-IIM का जिक्र लेकर आ गये हैं कि वहां की फीस तो JNU के मुकाबले कई सौ गुना अधिक है,…
और पढ़ें »