शिरीष खरे

किसी एक छोटे गांव की प्राथमिक शाला की अपनी वेबसाइट होना विशेष भले ही न लगे, लेकिन क्या यह कल्पना की जा सकती है कि इस शाला की वेबसाइट महाराष्ट्र राज्य के शिक्षा विभाग की वेबसाइट के समानांतर लोकप्रियता हासिल कर रही हो! वह भी महज सात महीने में। महाराष्ट्र के सांगली जिले की कोठीली गांव की प्राथमिक शाला के सहायक शिक्षक परशुराम शिंदे ने एक ऐसी ही साइट तैयार की है। इस साइट पर बीते साल जून से अब तक करीब सात लाख विजिटर जुड़ चुके हैं।

परशुराम शिंदे, उप-शिक्षक। जज्बा हो तो ऐसा।

साइट पर विजिटर की गणना करने वाला गजट बताता है कि इससे हर महीने औसतन एक लाख नये विजिटर जुड़ रहे हैं। इतने कम समय में इतनी लोकप्रियता ने खास तौर से राज्य की शिक्षा व्यवस्था से जुड़ी सूचनाओं से ताल्लुक रखने वालों का ध्यान इस ओर खींचा है। इस साइट की खासियत यह है कि इसकी पूरी सामग्री सरल और अनौपचारिक भाषा में है। फिर यह पूरी तरह मराठी भाषा की साइट है। स्कूली शिक्षा से जुड़ी हर आवश्यक जानकारी और सूचना साइट पर अपडेट की जाती है। इस साइट का अपना मोबाइल ऐप और यू ट्यूब चैनल भी है।

इस साइट का लिंक है : www.pdshinde.in


shirish khareशिरीष खरे। स्वभाव में सामाजिक बदलाव की चेतना लिए शिरीष लंबे समय से पत्रकारिता में सक्रिय हैं। दैनिक भास्कर , राजस्थान पत्रिका और तहलका जैसे बैनरों के तले कई शानदार रिपोर्ट के लिए आपको सम्मानित भी किया जा चुका है। संप्रति पुणे में शोध कार्य में जुटे हैं। उनसे shirish2410@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है।


 

संबंधित समाचार