Archives for बिहार/झारखंड - Page 8

बिहार/झारखंड

आंसुओं से नज़रें चुराकर हंसने का हुनर देखिए ।

छात्रों की सफलता पर जश्न । फोटो- आनंद कुमार JEE ADVANCED 2017 की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कराने के लिए चर्चित संस्थान सुपर-30 के सभी 30 छात्रों ने इस साल…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

कितने संपादक ‘गणेश विधि’ से LIVE टेस्ट को तैयार हैं?

मनीष कपूर के फेसबुक वॉल से ज्यादातर हिंदी न्यूज चैनलों के संपादक बिहार के हैं। जाहिर है उनमें से ज्यादातर ने बिहार बोर्ड की परीक्षा पास की होगी। उन्हें वो…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

पहले किसी दुल्हन के साथ ऐसा नहीं हुआ होगा ?

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर दुल्हन बनी जूली के सारे अरमान धरे रह गये। आरोप है कि शादी के दो घंटे बाद पुलिस ने कोहवर से जूली को घसीट कर बाहर निकाला। उसे…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

पूर्णिया के ‘ड्रीम कैचर’ का सपना सच होने को है!

एपी यादव ड्रीम कैचर के निर्देशक संतोष शिवम, अभिनेता धर्मेंद्र के साथ आम इंसान हो या फिर खास, गरीब या फिर अमीर हर किसी में एक समानता जरूर होती है…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

महानंदा के ठांव, दो चदरा की नाव

भूषण चौंकिए मत। यह जो चित्र आपके सामने है यह एक नाव का है। एक बड़ी नाव जितना काम कर सकती है उतनी ऊर्जा और उतने समय में उस से…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

पूर्णिया के धनखेता बन गए मक्का लैंड

पुष्यमित्र अगर आज हमारे कोसी के इलाके में दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे की शूटिंग हुई होती तो शाहरुख और काजोल सरसों के बदले मक्के के खेतों में रोमांस करते नजर…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

सतीश अब गाय नहीं पालेगा !

ब्रह्मानंद ठाकुर हमारे देश की सियासत कुछ ऐसी हो चली है कि अब वो आपके निजी जीवन में दखल देने लगी है । हम क्या खाएंगे, क्या पीएंगे, क्या पहनेंगे…
और पढ़ें »
अतिथि संपादक

जीवन के संघर्षों से जिसने सीखा समाजवाद का पाठ

ब्रह्मानंद ठाकुर आम, कटहल,नींबू और अमरुद की घनी छांव तले एक छोटा सा घर । जिसका नाम है चमेला कुटीर । प्रकृत की गोंद में बना चमेला कुटीर किसी ऋषि…
और पढ़ें »
अतिथि संपादक

मजहब नहीं सिखाता, ‘गांधीवाद’ से बैर रखना!

ब्रह्मानंद ठाकुर बिहार के मुजफ्फरपुर का मझौलिया गांव कभी हथकरघा उद्योग के लिए जाना जाता था। आज यहां काफी कुछ बदल गया है। एक-दो परिवार हैं जो हथकरघा को जिंदा रखे…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

गांधीवाद ही है आखिरी विकल्प- सच्चिदानंद सिन्हा

ब्रह्मानंद ठाकुर पूरी दुनिया आज बाजार बन गयी है। पूंजीवाद ने पूरी दुनिया को बारूद की ढेर पर लाकर खड़ा कर दिया है। मानवता खतरे में है। लोक से निरपेक्ष…
और पढ़ें »