Archives for बिहार/झारखंड - Page 8

अतिथि संपादक

बदलाव के पहले अतिथि संपादक ब्रह्मानंद ठाकुर

ब्रह्मानंद ठाकुर का जन्म बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में जनवरी 1952 में निम्न मध्यम वर्ग परिवार में हुआ । पढ़ने के साथ पत्र-पत्रिकाओं में लिखने का शौक बचपन से रहा है…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

पूर्णिया के रुपौली में डायन बता कर मार डाला!

पुष्यमित्र मैं यह शब्द इस्तेमाल नहीं करना चाहता था, मगर मजबूरी में करना पड़ा कि हमारे गंवाई समाज की जहालत खत्म होने का नाम नहीं ले रही। पूर्णिया जिले के…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

विकास की अंधी दौड़ में बिगड़ रहा गांव का ताना-बाना

ब्रह्मानंद ठाकुर हमारा गांव अब पूरी तरह से वैश्विक बाजार के हवाले हो गया है। खाने-खाने-पीने की चीजों से लेकर ओढना-बिछौना, रेडिमेड से लेकर थान वाले कपड़े, जूते- चप्पल, ऋंगार…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

मैले-पुराने कपड़ों के सहारे बिहार के 83 फीसदी महिलाओं की माहवारी

पुष्यमित्र मधुबनी जिले की एक महिला पेट दर्द से काफी परेशान थी. स्थानीय डॉक्टरों से दिखाया तो बताया गया कि यूटरस में कुछ है. उसे पटना रेफर कर दिया गया.…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

कहीं दर्जनों फ्लाईओवर, कहीं एक अदद पुल की जंग

⁠⁠⁠पुष्यमित्र फरकिया के ढेंगराहा पुल की लड़ाई अभी शुरू हुई है। हो सकता है इन्हें जल्द सफलता मिल जाये, हो सकता है बरसों लग जाये और क्रमवार तरीके से इन्हें…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

गंगा के दियारे में अफीम की खेती का सच क्या है?

⁠⁠⁠मोहन मंगलम कुछ साल पहले राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों की टीम ने गंगा दियारे का दौरा कर दियारे की धरती को मशरूम उत्पादन के लिए उपयुक्त बताया था। इसके…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

17 बरस के हो गए गिरीश मिश्र के ‘क्रांति-सूत्र’

आनन्दवर्धन प्रियवत्सलम 4 फरवरी को पटना के बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के दफ्तर में दर्जनों पत्रकार जुटे। गिरीश मिश्र को याद किया और कई पुरानी यादें शेयर कीं।  नोएडा में…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

मुद्रा स्कीम में लोन हासिल करना ही बड़ी चुनौती-पीड़ित

'यहां तक आते-आते सूख जाती हैं नदियां, मुझे मालूम है पानी कहां ठहरा होगा । वैसे तो कवि दुष्यंत ने ये लाइन कई बरस पहले लिखी लेकिन इसकी प्रासंगिकता आज…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

भुईली के ‘रायबहादुरों’ ने दिल्ली में लिया बड़ा संकल्प

संजीव कुमार सिंह भुईली के साथियों का दिल्ली में मिलन। सिर मुड़ाते ही ओले पड़ने की कहावत खूब सुनी है, लेकिन इस बार अपने अरमानों पर ओले पड़े। 26 जनवरी…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

फूस की झोपड़ी में छिपा कोसी का दर्द

फोटो- अजय कुमार पुष्यमित्र कोसी के तट पर बसे लोगों का दर्द वही समझ सकता है जो या तो वहां रहता हो या फिर वहां के लोगों को के दर्द…
और पढ़ें »