Archives for बिहार/झारखंड

बिहार/झारखंड

राष्ट्रकवि दिनकर की जयंती पर 23 को मुजफ्फरपुर में विशेष कार्यक्रम

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर  राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर  की 111वीं जयंती के अवसर पर  23 सितम्बर को मुजफ्फरपुर में लंगट सिंह महाविद्यालय में विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। …
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

कोसी में जल प्रलय के 11 बरस और डरे-सहमे लोग

फाइल फोटो पुष्यमित्र इन दिनों 2008 की कोसी बाढ़ के इलाके में घूम रहा हूं। यह इलाका नेपाल से सटा है और भीमनगर बराज के भी पास है। 2008 की…
और पढ़ें »
गांव के रंग

हक लिए आपको लड़ना ही होगा

पुष्यमित्र पारिवारिक वजहों से लगभग आधा अगस्त महीना सहरसा आते-जाते गुजरा। इस दौरान मैने महसूस किया कि सड़क मार्ग से सहरसा से मधेपुरा जाने में ठीक-ठाक हिम्मती लोग भी घबरा…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चित्रा, कुछ तो लोग कहेंगे…

आनंद बक्षी साहब इस देश को गजब समझते थे तभी लिखा था 'कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना'। लगातार देख रहा हूं कि Chitra Tripathi की एक तस्वीर पर…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार में बाढ़ के बीच ‘देवदूतों’ ने ली चमकी प्रभावित परिवारों की सुध

आनंद दत्ता दस जुलाई से जो हमने चमकी बुखार के पीड़ित बच्चों का सर्वेक्षण शुरू किया था, उसका पहला चरण कल खत्म हो गया। इस दौरान हमने कुल 225 पीड़ित…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘मिशन चमकी’ पार्ट-2 के लिए साथी हाथ बढ़ाना

पुष्य मित्र  अब वक्त आ गया है जब हम मिशन चमकी पार्ट-2 का आगाज करें । हम इस साल बीमार हुए 600 से अधिक चमकी बुखार पीड़ित बच्चों के घर…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चमकी बुखार के खिलाफ जंग में शामिल साथियों के सुझाव की जरूरत

पुष्यमित्र हमारा अभियान लगभग खत्म हो गया है, हालांकि एक टीम लगभग डटी है। आज हिसाब करने सत्यम और सोमू आये थे। हिसाब हुआ तो पता चला कि हमें मेरे,…
और पढ़ें »
अतिथि संपादक

मुजफ्फरपुर में आज भी रची-बसी हैं कविवर रवींद्रनाथ टैगोर की यादें

वीरेंद्र नंदा  मुजफ्फरपुर में सन् 1901 में रवीन्द्रनाथ टैगोर को दिये गये सम्मान-पत्र की बांग्ला प्रति की प्रतिलिपि रंगकर्मी स्वाधीन दास से मुझे मिली जो मेरे लिए 'काला अक्षर भैंस…
और पढ़ें »
खेती-बाड़ी

सूखा है तो है, उन्हें तो सिर्फ सत्ता से मतलब है!

सूखी पड़ी बेगूसराय की कांवर झील पुष्यमित्र / इन दिनों बिहार समेत लगभग पूरा देश भीषण सूखे का सामना कर रहा है, अगर 5-7 फीसदी लोगों को छोड़ दिया जाये…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘अकाल’ की दहलीज पर खड़ा बिहार

पुष्यमित्र इन दिनों लगभग पूरा बिहार भीषण किस्म के जलसंकट का सामना कर रहा है। दक्षिण बिहार की स्थिति तो अपनी भौगोलिक संरचना की वजह से नाजुक है ही, कल…
और पढ़ें »