Archives for बिहार/झारखंड

बिहार/झारखंड

सुहाग की रक्षा के लिए संतान का सौदा क्यों?

साभार- एएनआई ब्रह्मानंद ठाकुर हमारा समाज और सरकार देश को किस ओर ले जाना चाहता है, आज के दिनों में ये एक बड़ा सवाल बना हुआ है । पिछले कुछ…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बहू अंजलि ग्रेजुएट हो गई!

मिथिलेश कुमार राय सवेरे जब मैं काम पर निकल रहा था, माँ बोली कि मिठाई लेते आना। कल शुक्रवार है। थान पर चढ़ाना है- पतोहू ग्रेजुएट हो गई। जरूर। यह…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

महात्मा गांधी के चम्पारण में हाशिए पर किसान

फ़ाइल फोटो ब्रह्मानंद ठाकुर आज 23 दिसंबर है यानी किसान दिवस, जो किसान नेता चौधरी चरण सिंह के जन्मदिन के मौके पर मनाई जाती है, लेकिन इस बार किसान दिवस…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

दमन चक्र को तोड़ रहे हैं युवा कथाकार

अखिलेश्वर पांडेय मौजूदा समय में लिखी व प्रकाशित हो रही कहानियों का विमर्श उनकी रचनात्मकता का सबसे बड़ा पैमाना बन गया है. सिर्फ संपादक ही नहीं बल्कि युवा कहानीकार भी…
और पढ़ें »
आईना

रीयल लाइफ का ‘पैड-मैन’

बासु मित्र आपने अक्षय कुमार की फिल्म पैड-मैन की चर्चा खूब सुनी होगी । इन दिनों टीवी चैनल्स से लेकर अखबारों में पैड-मैन जरूर नजर आ जाता है, लेकिन क्या…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

न्यू इंडिया का ‘हसीन सपना’ और दम तोड़ते अन्नदाता की हकीकत

ये सुनने में काफी अच्छा लगता है कि हिंदुस्तान अब न्यू इंडिया बन रहा है । कम से कम मौजूदा दौर की केंद्र सरकार तो यही दावा करती है ।…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘भोजपुरी दर्शकों की सोच को समझने की ज़रूरत’

धनंजय कुमार सीतामढ़ी की मुखिया रितु जायसवाल भोजपुरी फ़िल्मों के दर्शक पूरे बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में तो हैं ही, मुम्बई से लेकर विदेशों में भी हैं, लेकिन…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

20 हज़ार के लिए 10 साल के मासूम का क़त्ल

सूर्यमणि  राजधानी दिल्ली और उसके आसपास हत्या और रेप की दिल दहलादेने वाली ख़बरें आम बात है, लेकिन जब ऐसी ख़बरें गांवों से भी आने लगे तो हमें समाज में…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बदलाव पाठशाला : नौनिहालों में जगाती शिक्षा की अलख

तस्वीर जो बदलेगी देश की तकदीर टीम बदलाव गांव और निचले तबके का विकास राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्राथमिकताओं में हमेशा सबसे ऊपर रहा। लिहाजा बापू के आदर्शों को जीवन…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार के गर्व रामशरण शर्मा को कभी तो याद कर लें

पुष्यमित्र यह कैसी विडंबना है कि हम साहित्यकारों को तो याद रखते हैं, इतिहासकारों को भूल जाते हैं। उन इतिहासकारों को जिन्होंने हमारी स्मृतियों और धरोहरों को पढ़कर हमें ऐतिहासिक…
और पढ़ें »