Archives for बिहार/झारखंड

बिहार/झारखंड

‘स्टालिन मुर्दाबाद’ वाले कन्हैया कुमार आपसे कुछ सवाल हैं!

ब्रह्मानंद ठाकुर स्टालिन कन्हैया कुमार जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार को जब एक दिन इलेक्ट्रानिक मीडिया के समक्ष स्टालिन मुर्दाबाद कहते सुना तो मैं चौंक गया। आखिर…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

सिविल सेवा की तैयारी के लिए कैसे बनाएं रणनीति ?

IAS आरपी यादव के फेसबुक से साभार अगर आप सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं या फिर करना चाहते हैं तो आप ये पोस्ट जरूर पढ़े, इस पोस्ट…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बेनीपुरी की 120वीं जयंती पर विशेष

ब्रह्मानंद ठाकुर रामवृक्ष बेनीपुरी की आज 120 वीं जयंती हैं, 23 दिसम्बर 1899 में मुजफ्फरपुर में जन्मे बेनीपुरी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, बेनीपुरी जी का बचपन संघर्ष से भरा…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चमकी बुखार की रिपोर्ट- नौनिहालों की मौत रोकने की एक कोशिश

ब्रह्मानंद ठाकुर मुजफ्फरपुर और इसके आस- पास के  जिले वैशाली, सीतामढी, समस्तीपुर, शिवहर आदि प्रति वर्ष अप्रैल और मई महीने में चमकी बुखार के प्रकोप से प्रभावित होते रहे हैं।…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘अफ़सरी’ या ‘मास्टरी’, अखिलेश के मन में कोई दुविधा न रही!

सामाजिक सरोकारों पर अर्थतंत्र कब हावी हो गया, ये कोई समझ ही नहीं पाया। समाज में आपकी पहचान अब आपके व्यवहार से नहीं आपके पैसे से होती है। यानी आपका…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

गांधी और अराजकवादियों का वैचारिक द्वंद्व

इस शृंखला के अन्तर्गत आप अभी तक अराजकवाद से सम्बंधित विभिन्न दार्शनिकों के विचारों से अवगत हो चुके हैं । अराजकवादी विचारक किस तरह वर्तमान औद्योगिक सभ्यता को ही समस्या…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

आदमी का डर खत्म हो तो समझो देश आज़ाद है- गांधी

पीयूष बबेले ‘गांधीजी’ शब्द मैंने पहली बार कब सुना, यह बता पाना नामुमकिन है. जैसे कि और भी बहुत सी संज्ञाओं के बारे में मैं ठीक-ठीक नहीं बता सकता कि…
और पढ़ें »
गांव के नायक

राष्ट्रकवि दिनकर की जयंती पर 23 को मुजफ्फरपुर में विशेष कार्यक्रम

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर  राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर  की 111वीं जयंती के अवसर पर  23 सितम्बर को मुजफ्फरपुर में लंगट सिंह महाविद्यालय में विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। …
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

कोसी में जल प्रलय के 11 बरस और डरे-सहमे लोग

फाइल फोटो पुष्यमित्र इन दिनों 2008 की कोसी बाढ़ के इलाके में घूम रहा हूं। यह इलाका नेपाल से सटा है और भीमनगर बराज के भी पास है। 2008 की…
और पढ़ें »
गांव के रंग

हक लिए आपको लड़ना ही होगा

पुष्यमित्र पारिवारिक वजहों से लगभग आधा अगस्त महीना सहरसा आते-जाते गुजरा। इस दौरान मैने महसूस किया कि सड़क मार्ग से सहरसा से मधेपुरा जाने में ठीक-ठाक हिम्मती लोग भी घबरा…
और पढ़ें »