Archives for बिहार/झारखंड

समस्तीपुर में धार्मिक समरसता की मिसाल खुन्देश्वर मंदिर

पुष्यमित्र दोस्तों के रेक्मेंडेशन पर समस्तीपुर के खुद्नेश्वर मन्दिर चला ही गया। तकरीबन 3-4 किमी जर्जर सड़क पर चलते हुए वहां जाते वक़्त उम्मीद थी कि खुदा और ईश्वर दोनों…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

मधुबनी के सियासी दंगल का गणित समझिए

पुष्यमित्र दरभंगा में चुनाव चर्चा हो रही थी तो एक स्थानीय सीनियर पत्रकार मित्र ने बताया, चुनाव मधुबनी में हो रहा है। यहां चुनाव जैसा कुछ लग कहां रहा है।…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार में मतदाताओं की उदासीनता कहीं ‘सियासी खिचड़ी’ तो नहीं पका रही ?

पुष्यमित्र एक मित्र ने फोन करके पूछा, कल पहले चरण का प्रचार खत्म हो जायेगा। अब बताइये क्या माहौल है? जवाब में अनायास मेरे मुंह से निकल गया, प्रचार अभियान…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चुनाव कामरेड कन्हैया लड़ रहे हैं, भगवान परशुराम नहीं !

राकेश कायस्थ सोशल मीडिया पर सक्रियता के जो साइड इफेक्ट हैं, उनमें आपका ना चाहते हुए रियेक्रशनरी होना जाना भी शामिल है। आखिर ट्रेंड कर रहे हर मुद्धे पर आपका…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार की हॉट सीट बेगूसराय में किसकी बयार ?

पुष्यमित्र गिरराज बाबू नम्बर वन हैं, तनवीर हसन दू नम्बर पर और कन्हैबा तीन नम्बर पर। लिखकर रख लीजिये। यही फाइनल रिजल्ट होगा। कन्हैबा को गठबंधन का टिकट मिल गया…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

लोकसभा चुनाव 2019: सियासत की वीणा, बीमा और लवली

पुष्यमित्र बिहार में महागठबंधन की ओर से सीट शेयरिंग और पहले चरण के उम्मीदवारों की घोषणा हो गयी। इसमें बताया गया कि नवादा से विभा देवी चुनाव लड़ेंगी, वे एनडीए…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चुनाव से पहले ही पूर्वी बिहार से बीजेपी का सफाया !

पुष्यमित्र बिहार में एनडीए के सीटों का हिसाब किताब तो हो गया। इस हिसाब किताब में सबसे ध्यान देने वाली बात यह हुई कि कोसी, अंग और मगध के इलाकों…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार के किशनगंज में चुनाव लड़ने से क्यों भाग रहे हैं NDA नेता

पुष्यमित्र शुक्रवार को किशनगंज के टेढागाछ प्रखंड मुख्यालय पहुंचा तो मालूम हुआ कि इस जगह का असली नाम दही भात है। जान कर बहुत आश्चर्य हुआ। आखिरी किसी जगह का…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

स्वतंत्र पत्रकारिता के नए प्रयोग पर निकल पड़ा है पथिक पुष्यमित्र

फाइल फोटो देश में चुनाव आने वाला है। सरकार अपना गुणगान करने में लगी है और विपक्ष सवाल उठाने में जुटा है । ऐसे में मीडिया का रोल अहम हो…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

विकास के दावों के बीच पानी ढोना ही जहां ज़िन्दगी है !

विकास के बड़े दावों के बीच देश के आदिवासी क्षेत्रों में पानी के रंग कुछ ऐसे है। ये आदिवासी किसान रोजमर्रा की ज़रूरत को कोसों पथरीली सड़क पर नंगे पांव…
और पढ़ें »