Author Archives: badalav - Page 3

गांव के नायक

पियुष ने मां तेरे नाम ज्ञान का दीप जलाया है

ब्रह्मानंद ठाकुर बदलाव पाठशाला, पियर, मुजफ्फरपुर पिछले साल 2 अक्टूबर को टीम बदलाव के साथियों की पहल और प्रेरणा से मुजफ्फरपुर जिले के अपने गांव पियर में हमने बदलाव पाठशाला…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

कलराज मिश्र के गोद लिए गांव धौरहरा और पयासी का हाल

सत्येंद्र कुमार यादव आदर्श ग्राम धौरहरा में मैरेज हॉल भूमि पूजन करते हुए सांसद कलराज मिश्र यूपी के देवरिया लोकसभा सीट से जनता ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र…
और पढ़ें »
गांव के नायक

सीवान में रक्तवीरों की टोली

जयंत कुमार सिन्हा करीब साल भर पहले का एक दिन, मैं तब शहर सीवान में था। डाँ राजेन्द्र प्रसाद, मजहरुल हक, और खुदा बक्श का सीवान। जब शहर के स्कूल…
और पढ़ें »
चौपाल

अनिल सहनी के गोद लिए गांव पिलखी का हाल

ब्रह्मानंद ठाकुर अनिल सहनी, पूर्व राज्यसभा सांसद आदर्श गांव पर आपकी रपट सीरीज में हुकुम देव नारायण यादव और अनुप्रिया पटेल के गोद लिए गांव पर हमने अब तक रिपोर्ट…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

अनुप्रिया पटेल के गोद लिए गांव ददरी का हाल

विनीता सिंह 'सांसद आदर्श गांव पर आपकी रपट' पर बदलाव की मुहिम जारी है। एक मई को हमने हुकूमदेव नारायण यादव के गोद लिए गांव पर रिपोर्ट प्रकाशित की थी। इस…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

पहले किसान नेता और क्रांति के अग्रदूत कुंअर सिंह

कुमार नरेंद्र सिंह आज भी भोजपुर के उज्जैनिया राजपूतों के गांव लहठान में एक बहुत बड़ा तालाब है, जिसके बारे में वहां के लोग बताते हैं कि वह पोखरा कुंअर सिंह…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

वैशाली के समकालीन गणराज्यों की गाथा

वीरेन नंदा भारत के ऐतिहासिक युग की शुरुआत वैशाली गणराज्य से होती है। यह दुनिया का पहला गणराज्य था। इस गणराज्य के भग्नावशेष मुजफ्फपुर से करीब 27 किलोमीटर दूर बसाढ़…
और पढ़ें »
आईना

दुलहिन तनी लम जा

डॉ. प्रीता प्रिया गर्मियों की शादी के मौसम में एक अजीब सा खालीपन होता है, एक उदासी सी होती है, एक खलिश होती है मानो मौसम बोझिल सा उदास सा…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

हुकूमदेव नारायण यादव के गोद लिए गांव दामोदरपुर का हाल

जूली जयश्री  टीम बदलाव ने मई महीने में आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिए गांवों की स्टोरी  पर फोकस करने का फैसला किया है। इसके लिए ‘आदर्श गांव पर आपकी रपट’ सीरीज…
और पढ़ें »
अतिथि संपादक

मन न रंगाया, रंगाया जोगी कपड़ा… नारायण! नारायण!

डाॅ॰ संजय पंकज खादी को गांधी जी के चेलों ने बर्बाद किया तो धर्म को गेरुआ धारण करनेवाले भेड़ियों ने। आश्रम की बेशर्मी ने भारतीय संस्कृति और मर्यादा को तार-तार…
और पढ़ें »