Author Archives: badalav - Page 3

मेरा गांव, मेरा देश

देश में पहले आम चुनाव से ही ‘लोकतंत्र’ पर भारी रहा है ‘अर्थतंत्र’

पहले आम चुनाव में इस्तेमाल होने वाले बैलेट बॉक्स- फाइल फोटो साभार विकिपिडिया ब्रह्मानंद ठाकुर उस चुनाव में रामवृक्ष बेनीपुरी कटरा दक्षिणी विधानसभा क्षेत्र से सोशलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार थे।…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

देश के पहले आम चुनाव की एक झलक

ब्रह्मानंद ठाकुर भारत में लोकतंत्र का महापर्व ( 17 वां लोकसभा चुनाव )  चल रहा है। इस पूंजीवादी राजसत्ता में पूंजीपतियों को खुश रखने के लिए कौन सा दल सरकार…
और पढ़ें »
गांव के नायक

देवरिया की लाडली का IAS बनने का सपना हुआ पूरा

अरुण प्रकाश अगर आपके भीतर कुछ करने का जुनून हो तो कुछ भी नामुमकिन नहीं । ये बात यूपी के देवरिया की रहने वाली प्रियंका रानी ने साबित कर दिखाया…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार में मतदाताओं की उदासीनता कहीं ‘सियासी खिचड़ी’ तो नहीं पका रही ?

पुष्यमित्र एक मित्र ने फोन करके पूछा, कल पहले चरण का प्रचार खत्म हो जायेगा। अब बताइये क्या माहौल है? जवाब में अनायास मेरे मुंह से निकल गया, प्रचार अभियान…
और पढ़ें »
चौपाल

संजीव चौहान की आवाज ही ‘कहानी’ आजतक की ‘जान’ है

कुमार विनोद की फेसबुक वाल से साभार ये संजीव चौहान हैं। कहानी के साथ चौथे साल और 180 एपिसोड के साथी। अपने हिस्से का काम कम नहीं इनके पा। ओहदे…
और पढ़ें »
गांव के नायक

यूपीएससी के टॉपर कनिष्क कटारिया- पहली बार में फतह

टीम बदलाव यूपीएससी 2018 परीक्षा का फाइनल रिजल्ट घोषित हो चुका है । IIT बॉम्बे के छात्र रहे कनिष्क कटारिया ने इस परीक्षा में पहला स्थान हासिल किया है ।…
और पढ़ें »
गांव के रंग

भारत की समकालीन राजनीति और अविश्वसनीयता का ताना-बाना !

वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश के फेसबुक वॉल से कभी-कभी भारतीय राजनीति और उस पर अपने नियमित लेखन से मन उचटने लगता है! वैसे ही जैसे ज्यादातर न्यूज चैनलों और क्रिकेट से…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

‘अच्छे दिन’ वाली सरकार का 5 साल बाद ‘साफ नीयत’ का रोना

राकेश कायस्थ चुनावी नारा राजनीतिक दलों के लिए एक भावनात्मक चीज़ भी होता है। नारा यानी वह सबसे अहम बात जिसे आप दिल की गहराई से महसूस करते हैं, इसलिए…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

टीवी की डिबेट का स्तर चौक-चौराहे की चर्चा से भी बदतर-सच्चिदानंद जोशी

बदलाव प्रतिनिधि, गाजियाबाद प्रेस की स्वतंत्रता एवं मीडिया का आत्म नियमन विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय मीडिया संगोष्ठी गाजियाबाद के वैशाली में हुई। निस्कार्ट मीडिया कॉलेज, वैशाली गाजियाबाद और यूरेका…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चुनाव कामरेड कन्हैया लड़ रहे हैं, भगवान परशुराम नहीं !

राकेश कायस्थ सोशल मीडिया पर सक्रियता के जो साइड इफेक्ट हैं, उनमें आपका ना चाहते हुए रियेक्रशनरी होना जाना भी शामिल है। आखिर ट्रेंड कर रहे हर मुद्धे पर आपका…
और पढ़ें »