Author Archives: badalav - Page 3

सुन हो सरकार

प्रद्युम्न को बदलाव बाल क्लब की ओर से श्रद्धांजलि

बदलाव प्रतिनिधि, दिल्ली गुरुग्राम में रेयान इंटरनेशनल स्कूल में मासूम प्रद्युम्न की हत्या की ख़बर से देश सन्न रह गया । लिहाजा हर कोई अपने-अपने तरीके से गुस्से का इजहार…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

प्रद्युम्न ने खामोश कर दिया !

फाइल फोटो- प्रद्युम्न देवांशु झा मां जब कहती है कि उसे ईश्वर ने आंखें ही क्यों दीं तब मुझे शेक्सपीयर की पंक्तियां याद आती हैं अंधकार में खुद को धिक्कारती…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

पूरी रात आंखों में तैरती रहीं प्रद्युम्न की तस्वीरें

फाइल फोटो- प्रद्युम्न सात साल के प्रद्युम्न की तस्वीरें पूरी रात आंखों में तैर रही थीं । उसकी अस्पताल की तस्वीर देखी तो दिल झकझोर उठा । उफ़्फ !! उस…
और पढ़ें »
आईना

वो हर बहस को डिरेल करने वाले महायौद्धा हैं!

राकेश कायस्थ सोशल मीडिया पर मासूमियमत, मूर्खता और व्यवस्थित ट्रोलिंग की तीन धाराएं साथ-साथ चलती रहती हैं। इन तीनों का मकसद एक ही होता है। किसी खास मुद्धे पर उठ…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

वंशीपचडा-वह गांव जिसने रामबृक्ष को बेनीपुरी बना दिया

ब्रह्मानंद ठाकुर एक नन्हा -सा टुअर बालक जिसकी मात्र 4 साल की उम्र में मां मर गयी और जब वह 9 वर्ष का था तो पिता भी साथ छोड़ गए।…
और पढ़ें »
यूपी/उत्तराखंड

हमारा शिक्षा तंत्र और कबीर की उलटबांसी

ब्रह्मानंद ठाकुर आज शिक्षक दिवस है। मैं शिक्षक रहा हूं और सरकार, प्रशासन और समाज द्वारा शिक्षकों के प्रति जो उपेक्षात्मक भाव रहा है, उसे काफी निकट से देखा है।…
और पढ़ें »
आईना

सरकारी बैंक के कामकाज की निगरानी कौन करता है?

पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से मन बैंक वालों की वजह से भन्ना गया है। दो ऐसे अनुभव हुए हैं कि समझ नहीं आता, सरकारी बैंक वालों के कामकाज की कोई…
और पढ़ें »
चौपाल

शाइनिंग इंडिया टू सेलिंग इंडिया

फ़ाइल फोटो राकेश कायस्थ सरकारी तंत्र यानी नकारापन। प्राइवेट सेक्टर यानी अच्छी सर्विस और एकांउटिबिलिटी। यह एक आम धारणा है, जो लगभग हर भारतीय के मन में बैठी हुई है…
और पढ़ें »
आईना

हिम्मत से सच कहने का हुनर जानते हैं अजीत अंजुम

राहुल कुमार के फेसबुक वॉल से मेरठ में दुष्यंत स्मृति समारोह में दुष्यंत कुमार फाउंडेशन की तरफ से वरिष्ठ टीवी पत्रकार अजीत अंजुम और मशहूर कवि हरिओम पवार को दुष्यंत…
और पढ़ें »
चौपाल

बच्चे फटकार की नहीं प्यार की भाषा समझते हैं

अरुण प्रकाश बच्चे का मन गंगा की तरह पवित्र और निर्मल होता है। उसमें ना कोई छल होता है और ना ही कपट। उसके मन में जो कुछ चलता है…
और पढ़ें »