Author Archives: badalav - Page 3

मेरा गांव, मेरा देश

समाज को अज्ञानता और असहिष्णुता के आनंदलोक की ओर ढकेलता हमारा मीडिया

उर्मिलेश जी के फेसबुक वॉल से साभार अपने देश के उत्तर और मध्य क्षेत्र में पत्रकारिता, खासतौर पर न्यूज चैनलों का जो हाल है, उससे समाज का बड़ा हिस्सा बुरी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

आप बहुत याद आएंगी सुषमा जी

फाइल फोटो राकेश कायस्थ मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल को याद कीजिये। गवर्नेंस का एक नया मॉडल देश में आया था। शासन की पूरी शक्ति पीएमओ में समाहित हो चुकी…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

मुझे कश्मीर में प्लॉट नहीं, कश्मीरी दोस्त चाहिए

फाइल फोटो पुष्य मित्र आजकल कभी कभी मन होता है कि हर मुद्दे पर क्यों बोला जाये। अपनी राय जाहिर करते रहना कोई जरूरी है क्या? और क्या लोग मेरी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

ये मूर्खता के भूमंडलीकरण का दौर है !

राकेश कायस्थ/ पिछले पांच साल में इस देश में प्रति मिनट जितने शौचालय बने हैं, उन्हें अगर जोड़ा जाये तो शौचालयों की कुल संख्या शायद देश की आबादी से भी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

रवीश कुमार को रेमन मैग्सेसे अवॉर्ड

अरुण प्रकाश/ रवीश कुमार भारतीय मीडिया जगत का एक ऐसा नाम है जिसका आप भले ही विरोध करते हों, लेकिन उसकी अनदेखी नहीं कर सकते । रवीश कुमार को रेमन…
और पढ़ें »
गांव के नायक

गोवा के सरकारी स्कूल और मानवीय मूल्य

शिरीष खरे इन दिनों में रिसर्च के कामम से गोवा भ्रमण पर हूं और खासकर ग्रामीण परिवेश और स्कूलो के बदलते स्वरूप को देखने का मौका मिल रहा है, यकीन…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

भारतीय समाज का आईना है कुली लाइन्स और माटी माटी अरकाटी

पुष्यमित्र इन दोनों किताबों को एक साथ पढ़ना चाहिये और मुमकिन हो तो पहले कुली लाइन्स को पढ़ना चाहिये फिर माटी माटी अरकाटी को। मगर मेरे साथ दिक्कत यह हुई…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

रिवायत- राजधानी में लोक-उत्सव की ‘सर्जिकल स्ट्राइक’

पशुपति शर्मा रिवायत लोक उत्सव की आयोजक बिंदु चेरुंगथ। आप सपने देखें तो वो सच भी होते हैं। इसी विश्वास के साथ दिल्ली में लोक कलाओं के अपने पहले उत्सव…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चित्रा, कुछ तो लोग कहेंगे…

आनंद बक्षी साहब इस देश को गजब समझते थे तभी लिखा था 'कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना'। लगातार देख रहा हूं कि Chitra Tripathi की एक तस्वीर पर…
और पढ़ें »
आईना

गोवा का एक अनोखा स्कूल

शिरीष खरे आमतौर पर घर, खेत, खलिहान और दुकानों पर काम करने वाली महिलाओं के काम को काम नहीं माना जाता है। बच्चों को पालने और उन्हें बड़े करने के…
और पढ़ें »