Tag archives for नीतीश कुमार

मेरा गांव, मेरा देश

गुजरात से पलायन और सियासत का मकड़जाल

राकेश कायस्थ गुजरात में भड़की हिंसा और यूपी-बिहार के मजदूरों के पलायन के पीछे की असली वजह क्या है? सरसरी तौर पर देखने पर एक बड़ी वजह कांग्रेस विधायक अल्पेश…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

सड़ता सिस्टम, सोती सरकार और दम तोड़ती बेटियां

पुष्यमित्र कल से जो बवाल मचना शुरू हुआ था, उसके दबाव में आज बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह के मामले को सीबीआई को सौंप दिया है। मगर क्या सीबीआई…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

सिमुलतला कैसे बनेगा नेतरहाट का विकल्प?

ब्रह्मानंद ठाकुर नेतरहाट एक ऐसा विद्यालय जहां से IAS और IPS समेत ढेरों अफसर निकलते हैं, कभी ये विद्यालय बिहार का मान बढ़ाया करता था, लेकिन झारखंड राज्य बनने के…
और पढ़ें »
चौपाल

‘सुशासन बाबू का फ़ैसला गांधीद्रोह से कम नहीं’

पहली बार जिस खपरैल में गांधी का स्कूल शुरु हुआ था ब्रह्मानंद ठाकुर बिहार सरकार के एक फैसले को लेकर पिछले दिनों अखबारों में 'बुनियादी विद्यालयों को खत्म करने पर…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

8 साल बाद जारंग गांव में लौटी ‘उम्मीदों के स्कूल’ की रौनक

ब्रह्मानंद ठाकुर आखिर क्या वजह है कि जब कोई मंत्री या नेता गांव-गिराव में जाता है तभी प्रशासन को वहां की बदइंतजामियों की चिंता सताती है, क्या बिना मुख्यमंत्री, मंत्री…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

खाये पिये कुछ नहीं, गिलास फोड़े बारह आना

राकेश कायस्थ अक्टूबर 2015 की बात है। बिहार के चुनावी तमाशे के बीच अचानक एक एमएमएस सामने आया। औघड़ सरीखे एक मैले-कुचैले बाबाजी हाथ उठाकर कह रहे थे— लालू यादव…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

फरक्का बांध, सिल्ट और नदियों की अविरल धारा

पुष्यमित्र मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फरक्का बराज की वजह से गंगा नदी और बिहार को होने वाले नुकसान का मसला उठा कर एक नयी बहस छेड़ दी है। उन्होंने कहा…
और पढ़ें »

धान ‘छूट’ हे सरकार… धान ‘छूट’ हे !

यह तस्वीर आरा जिले के धनछुआं गांव के किसान बबन रॉय की है । वे अपने धान के बोझों के आगे खड़े हैं । यह धान दिसंबर में कटा था,…
और पढ़ें »

मां से मिला देती है ‘मइया’

फोटो- अनीश कुमार सिंह केरवा के पात पर उगेलन सूरूज मल झांके-झुंके... ये गाना घर-घर में बज रहा था लेकिन घर में उदासी छाई थी। मां खरना पर अकेली बैठी…
और पढ़ें »

दीवाली बिहारे में… बूझे काहे नहीं ‘शाह-बुझक्कड़’

शंभु झा बिहार चुनाव के नतीजों पर आपने काफी विश्लेषण और समीक्षाएं अब तक पढ़ ली होंगी। बड़े बड़े राजनीतिक पंडित, जिनके आकलन और अऩुमान चुनाव में धरे रह गए, अब फिर…
और पढ़ें »
12