‘अकाल’ की दहलीज पर खड़ा बिहार

पुष्यमित्र इन दिनों लगभग पूरा बिहार भीषण किस्म के जलसंकट का सामना कर रहा है। दक्षिण बिहार की स्थिति तो

और पढ़ें >

गुजरात से पलायन और सियासत का मकड़जाल

राकेश कायस्थ गुजरात में भड़की हिंसा और यूपी-बिहार के मजदूरों के पलायन के पीछे की असली वजह क्या है? सरसरी

और पढ़ें >

सड़ता सिस्टम, सोती सरकार और दम तोड़ती बेटियां

पुष्यमित्र कल से जो बवाल मचना शुरू हुआ था, उसके दबाव में आज बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह के

और पढ़ें >

सिमुलतला कैसे बनेगा नेतरहाट का विकल्प?

ब्रह्मानंद ठाकुर नेतरहाट एक ऐसा विद्यालय जहां से IAS और IPS समेत ढेरों अफसर निकलते हैं, कभी ये विद्यालय बिहार

और पढ़ें >

‘सुशासन बाबू का फ़ैसला गांधीद्रोह से कम नहीं’

ब्रह्मानंद ठाकुर बिहार सरकार के एक फैसले को लेकर पिछले दिनों अखबारों में ‘बुनियादी विद्यालयों को खत्म करने पर तुली

और पढ़ें >

8 साल बाद जारंग गांव में लौटी ‘उम्मीदों के स्कूल’ की रौनक

ब्रह्मानंद ठाकुर आखिर क्या वजह है कि जब कोई मंत्री या नेता गांव-गिराव में जाता है तभी प्रशासन को वहां

और पढ़ें >

खाये पिये कुछ नहीं, गिलास फोड़े बारह आना

राकेश कायस्थ अक्टूबर 2015 की बात है। बिहार के चुनावी तमाशे के बीच अचानक एक एमएमएस सामने आया। औघड़ सरीखे

और पढ़ें >

फरक्का बांध, सिल्ट और नदियों की अविरल धारा

पुष्यमित्र मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फरक्का बराज की वजह से गंगा नदी और बिहार को होने वाले नुकसान का मसला

और पढ़ें >

धान ‘छूट’ हे सरकार… धान ‘छूट’ हे !

पुष्यमित्र फरवरी महीना खत्म होने वाला है । राजधानी पटना में पक्ष-विपक्ष के बीच धान खरीद को लेकर रोज तू-तू, मैं-मैं जारी

और पढ़ें >