जरूरी मेडिकल सामान लेकर मुजफ्फरपुर पहुंची स्वयंसेवी

पुष्यमित्र

मुजफ्फरपुर को लेकर आप बहुत परेशान हैं? अगर हां तो इनमें से एक काम कीजिये-

1. सीधे मुजफ्फरपुर आईये, किसी गांव में रुक कर गरीब लोगों को कुछ थर्मामीटर दीजिये और उन्हें बुखार चेक करने का तरीका बताईये। उन्हें समझाईए कि 100 से ऊपर बुखार आये तो पारासिटामोल देना है। यहां सबसे अधिक जरूरत जागरूक करने वाले लोगों की है।

2. नहीं आ सकते तो जो लोग जा रहे हैं उनकी मदद कीजिये। उनके ठहरने, घूमने फिरने का इन्तजाम कीजिये। (पटना से Satyam Kumar Jha, सहरसा से Somu Anand के साथ कई साथी हैं, उनसे सम्पर्क कीजिये।)

इसके अलावा वहां की स्थिति को सुधारने का कोई तरीका नहीं है। मैं 9 जून से लगातार फेसबुक पर गुस्से से भरी पोस्ट लिख रहा हूं, बच्चों की मौत का आँकड़ा मेरे गुस्से से, मेरी पोस्ट से कम नहीं हो रहा। इसलिये, मैने समझ लिया है गुस्सा करना और पोस्ट लिखना इस रोग का इलाज नहीं है।