Archives for मेरा गांव, मेरा देश - Page 51

पब्लिक स्कूल से कहां पिछड़ गए सरकारी स्कूल ?

डॉ विनोद कुमार उत्तर प्रदेश में प्राइमरी स्कूलों की बदहाली के सिलसिले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फ़ैसले ने मानो उत्तर प्रदेश की उनींदी शिक्षा व्यवस्था को झकझोर कर जगा दिया…
और पढ़ें »

कापड़ीजी, एक तोता गरिया रहा है- हमरा नंबर कब ?

सत्येंद्र कुमार बड़े पर्द के बाद 22 अक्टूबर, शाम 8 बजे STAR GOLD HD पर फिर 'मिस टनकपुर' मिली और मुझे गांव की ओर लेकर चली गई। ठीक उसी तरह…
और पढ़ें »

मुझे दुलराता है, मेरे गांव का स्टेशन

शंभु झा मेरा गांव रेलवे लाइन के किनारे है। गांव की ज़मीन पर ही रेलवे स्टेशन बसा है। स्टेशन बसा है, जैसे घर बसता है। स्टेशन हमेशा मुझे घर जैसा…
और पढ़ें »

दूसरे भाषण में देश बदलने का दमखम

पीएम के भाषण पर सत्येंद्र कुमार की प्रतिक्रिया दूसरे भाषण में बस देश की बात की। पहले घर दुरुस्त करने की कवायद। संगच्छध्वम् संवदध्वम् सं वो मनांसि जानताम्—हम साथ चलें,…
और पढ़ें »

खरामा-खरामा देश बदलने की ललक

देश बदलने की दिशा में 15 कदम  'टीम इंडिया' के कैप्टन का देश को नमन। 1. 75वें स्वतंत्रता दिवस यानी 2022 तक सक्षम, स्वस्थ, श्रेष्ठ, स्वाभिमानी, संपन्न और स्वालंबी भारत के…
और पढ़ें »

लाल किले से किसानों को तोहफा

लाल किले से पीएम मोदी का दूसरा भाषण किसानों के फ़ायदे की 5 अहम बातें 1. किसानों के खेत तक पानी पहुंचाने के लिए योजना बनाई। हर खेत को पानी…
और पढ़ें »

लाल किले के प्राचीर से 2014 के 15 वादे

लाल किले से प्रधान सेवक का पहला भाषण15 अगस्त, वो दिन जिसके नाम मात्र से आज़ादी का रोमांच भर जाता है। इस दिन पूरा देश आज़ादी का जश्न मनाता है।…
और पढ़ें »

तेरा जुल्मों कौ हिसाब चुकौंल एक दिन…

-बी डी असनोड़ा की रिपोर्ट नरेंद्र सिंह नेगी। उनकी आवाज़ में है असर का जादू। फ्रांस के एक मशहूर लेखक ज्यां पॉल सार्त्र को 1964 में साहित्य के लिए नोबल…
और पढ़ें »

गायब भईल पोखरी, हे हो… केना खायब मखान

दरभंगा की पहचान रहे पोखर और मखाना, दोनों संकट में हैं। फोटो विपिन मिथिला से विपिन कुमार दास की रिपोर्ट पग–पग पोखरी और माछ-मखान, इहें छैथ मिथिलाक पहचान। मिथिला अपनी…
और पढ़ें »

60 साल बाद… सबसे लंबा ‘छक्का’

  नरेंद्र लाल शाह- रिटायरमेंट के बाद बड़ी पारी। गैरसैंण से बी डी असनोड़ा की रिपोर्ट उत्तराखण्ड की गैरसैंण तहसील के धुनारघाट में जन्मे नरेंद्र लाल शाह बचपन से ही…
और पढ़ें »