Archives for मेरा गांव, मेरा देश - Page 51

कांग्रेस का PPP मॉडल- प्रियंका, पंडित और प्रशांत!

पंजे को आगे लाने की कोशिश में प्रशांत, प्रियंका और राहुल गांधी। कमलेश यादव यूपी विधानसभा चुनाव के लिए सभी दलों ने अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी है। ख़बर…
और पढ़ें »

बुंदेलखंड के लिए एक उम्मीद है दशरथ का कुआं

आशीष सागर -हमारे देश में सूखा सियासत नहीं करता बल्कि सूखे पर सियासत जरूर होती है । शायद यही वजह है कि सूखे से जूझ रहे बुंदेलखंड तक मोदी सरकार…
और पढ़ें »

ईशमेला में सपनों की पाठशाला

अनीश सिंह कितना अच्छा हो जब बच्चों पर पढ़ाई के लिए उनपर दबाव न डाला जाए, कितना अच्छा हो जब बच्चों में पढ़ाई के लिए रूचि खुद ब खुद पनप…
और पढ़ें »

सीमांचल में ‘वर्चुअल दुनिया’ से रियल फाइट

पुष्यमित्र सोशल मीडिया ने आज पूरी दुनिया को एक सूत्र में बांध दिया है, किसी को पुराने दोस्त की तलाश करनी हो तो फेसबुक, किसी को अपने मन की बात…
और पढ़ें »

इब्नेबतूता के किस्सों में मौजूद नदी एक ‘किस्सा’ ही बन गई!

ज़ैग़म मुर्तज़ा मतवाली नदी अब नाला बन गई है । फोटो- ए हाजरा उत्तर प्रदेश का अमरोहा क़रीब तीन लाख की आबादी वाला क़स्बा है। इब्ने बतूता ने अपने सफरनामे…
और पढ़ें »

गेहूं ने निराश किया, मक्का से उम्मीदें

रुपेश कुमार चौकाने वाले आंकड़े हैं कि जिले में प्रत्येक वर्ष गेहूं की उत्पादकता कम होती जा रही है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन एवं राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत…
और पढ़ें »

भारत माता की जय, समर्थन-विरोध का खेल निराला है!

पन्ना लाल भारत में देशभक्ति पर चल रही बहस को संदर्भों में देखने की जरूरत है। मातृभूमि की पूजा को भारत में एक सहज विचार माना जाता रहा है। 'भारत…
और पढ़ें »

मैनपुरी का ‘मास्टर्स इन फ्लावर’

दिल्ली के कृषि मेले में फूलों के बीच युवा किसान रवि पाल अरुण यादव बदलाव की बयार कब और कहां से निकलेगी ये कोई नहीं जानता । क्या आप सोच…
और पढ़ें »

आजाद ज़िंदगी की जंग

फोटो- अजय कुमार मनोज कुमार आजाद ज़िंदगी पाने की जंग अब भी बाकी है उम्मीद रोशनी की लौ अब भी जलाना बाकी है देखकर हैरान हूं मैं किस जहां के…
और पढ़ें »

परशुराम की तपोभूमि में एक और तपस्या

पोखर में पानी के लिए गांव वालों का भागीरथ प्रयास । सत्येंद्र कुमार यादव 19 अप्रैल को गांव पिंडी, देवरिया जाना हुआ। 20 अप्रैल को मामा के बेटे की शादी…
और पढ़ें »