Archives for आईना - Page 15

आईना

एक बेटी का पिता और अजनबी लड़की

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री ने 11 अगस्त को डॉटर्स डे के तौर पर मनाने की शुरुआत की है। ये एक बेहतरीन पहल है। बेटियों को हिंदुस्तान में क्यों…
और पढ़ें »

गौ-रक्षा पर पीएम के ‘विस्फोट’ का वेलकम!

संदीप सिंह ‘गौ-रक्षा की दुकानें’ चला रहे लोगों पर प्रधानमंत्री मोदी का ग़ुस्सा खुलकर सामने आया है। मोदीजी के अनुसार इनमें से अधिकांश असामाजिक तत्व हैं जो रात में आपराधिक…
और पढ़ें »

करोड़पति महिला क्यों बेच रही है छोले कुल्चे?

छोले कुल्चे बेचती उर्वशी यादव। फोटो- Soul-stirrings by Sunali सत्येंद्र कुमार यादव एक SUV गाड़ी, 3 करोड़ रुपए कीमत का बंगला, आर्थिक रूप से मजबूत फिर भी पढ़ी लिखी महिला…
और पढ़ें »

…और वह तीसरी बार भाग गई!

रजिया अंसारी बिहार के सुप्रसिद्ध चित्रकार राजेंद्र प्रसाद गुप्ता की कृति। कहानी नहीं हकीकत है।  सुनने मे आया कि वह तीसरी बार ससुराल से भागी है। अपने तीनों बच्चों को…
और पढ़ें »

अटल बार-बार याद दिलाते हैं ‘राजधर्म’

वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी की पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पर लिखी पुस्तक- 'हार नहीं मानूंगा' का लोकार्पण 3 जनवरी की शाम हो गया। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इस पुस्तक…
और पढ़ें »

सावन की एक शाम, वाजपेयी के नाम

तीन अगस्त 2016, शाम छह बजे। कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में विजय त्रिवेदी की अटल बिहारी वाजपेयी पर लिखी जीवनी 'हार नहीं मानूंगा' का लोकार्पण और फिर एक जबरदस्त पैनल डिस्कशन। गृहमंत्री…
और पढ़ें »

आधे-अधूरे का यथार्थवाद और जयंत देशमुख का सेट

संगम पांडेय जयंत देशमुख सिनेमा के जाने-माने सेट डिजाइनर हैं। उनका यह हुनर एमपीएसडी के छात्रों के लिए निर्देशित नाटक ‘आधे अधूरे’ में भी पूरे उरूज पर नुमाया था। मोहन…
और पढ़ें »

आतंकी और बहादुर बच्चा

डेमो राजेश मेहरा राजू घर में खेल रहा था तभी उसके पापा ऑफिस से आये और बोले बेटा टीवी चलाओ जरा। राजू ने पूछा क्या बात है पापा आज आप…
और पढ़ें »

दलित होने का दर्द… छात्र से प्रोफेसर बनने तलक

रविकांत चंदन हाल में बिहार शिक्षा (माध्यमिक) बोर्ड के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के नतीजे सुर्खियों में रहे हैं। पहले जिन टाॅपर्स के घरों में खुशियाँ मनायी जा रही थीं, मिठाइयाँ…
और पढ़ें »

कान्हा करेगा ‘सुदीप’ तेरा इंतज़ार, हो सके तो आना ज़रूर

राकेश कुमार मालवीय सुदीप (बीच में)। रामकृष्ण डोंगरे और राकेश मालवीय के साथ। उफ ! वक्त तुम कितने बुजदिल हो। दो साल पहले सुदीप पत्रकारिता में एक नई जगह पर…
और पढ़ें »