Archives for आईना - Page 15

आओ हंसें, खिलखिलाएं, बातें करें और दिल को ‘हलका’ कर लें

विकास मिश्रा अपनी मां के साथ विकास मिश्रा मुझे मेरी मां से बहुत कुछ मिला, लेकिन एक ऐसी चीज भी मिल गई, जिसे मैं कभी नहीं चाहता था। वो था…
और पढ़ें »

सब ठाठ धरा रह जायेगा…

तू आया है, तो जायेगा हम रोटी–भात खायेगा। तू लोहा–सोना खोदेगा हम खेत में नागर जोतेगा। तू हीरा-पन्ना बेचेगा हम गाछ पे पानी सींचेगा। तू सेल्फी फोटू खींचेगा हम फटा-चिथन्ना…
और पढ़ें »

काश! कोई सुन ले दिव्यांश की चीखें

धीरेंद्र पुंडीर दिल्ली के एक निजी स्कूल में दिव्यांश की मौत। ये दिव्यांश की तस्वीर है। एक परिवार को छोड़ दें तो बाकि सब के लिए एक तस्वीर। कुछ देर में…
और पढ़ें »

बांदा के गांव में जिंदा है ‘ठाकुर का कुआं’

आशीष सागर दीक्षित ''आइए महसूस करिए ज़िन्दगी के ताप को मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको  जिस गली में भुखमरी की यातना से ऊब कर मर गई फुलिया…
और पढ़ें »

महामना! इन्हें माफ़ कर देना…

महामना एक्सप्रेस की दुर्दशा- मुसाफ़िरों की मेहरबानी भूपेंद्र सिंह कोई भी देश अपने शासक से महान नहीं बनता है, वह महान बनता है अपने लोगों से, अपने समाज से। यदि…
और पढ़ें »

‘मोटी तोंद’ देखी, ‘फटी बनियान’ भी कभी तो देखो

नवनीत सिकेरा इस फोटो को मैं कई सालों से इंटरनेट पर देख रहा हूँ, पुलिस को लेकर लोग बुरा भला कहते हैं, फिटनेस को लेकर मोटा, गैंडा, ठुल्ला कहते हैं…
और पढ़ें »

जाने कहां चले गए गणतंत्र के ऐसे ‘भोले’ नायक?

पुष्यमित्रगणतंत्र दिवस के मौके पर आईये आपको मिलाते हैं बिहार के एक दलित मुख्यमंत्री के परिवार से, जिन्हें तीन बार सीएम बनने का मौका मिला। जी हाँ, यह भोला पासवान…
और पढ़ें »

फेसबुक की दुनिया से मोहब्बत के दो किस्से

फेसबुकिया मित्र राज झा से अजय कुमार की एक आत्मीय मुलाक़ात। फेसबुक पर मोहब्बतें-एक एक मेरे फ़ेसबूक मित्र हैं राज झा। ये दरभंगा (बिहार) के मनीगाछी – फुलपरास के समीप…
और पढ़ें »

अख़बार के 8 पन्नों में मां की ममता का संसार

डॉ प्रकाश हिंदुस्तानी विजय मनोहर तिवारी ने अपनी मां श्रीमती सावित्री तिवारी को अलग तरीके से विदाई दी। उन्होंने अपनी मां की स्मृति में 8 पेज का वर्ल्ड क्लास का…
और पढ़ें »

एसिड से भी खाक नहीं कविता का सौंदर्य!

प्रतिभा ज्योति   लोग अक्सर सोशल साइटस पर अपने आकर्षक और खूबसूरत तस्वीरें पोस्ट किया करते हैं। पोस्ट के बाद उम्मीदों के बादल इसी सोच के आस-पास घुमड़ते रहते हैं…
और पढ़ें »