Author Archives: badalav - Page 95

फागुन के महिना में खेत के खेत खाली डरे… छाती फटत

कीर्ति दीक्षित ‘का बताएं बेटा मर रहे... सब सरकार तो सरकार इसुर तक दुश्मन बनो बैठो किसान को तो , देख लेओ फागुन के महिना में खेत के खेत खाली…
और पढ़ें »

छोटा कर के देखिए जीवन का विस्तार- निदा फ़ाजली

अनिमेष पाठक बात दिसंबर 2015 के पहले हफ्ते की है। ऑफिस से काम जल्दी निबटाकर लगभग दौड़ता हुआ मैं मुनव्वर राणा के मुशायरे में पहुंचा था। पर ये क्या -मुनव्वर भाई…
और पढ़ें »

रोहित वेमुला को पोस्टर बॉय बनायेगी RJD- तेजस्वी

बासु मित्र हैदराबाद विश्वविद्यालय के दलित छात्र रोहित वेमुला की ख़ुदकुशी के बाद देशभर के पिछड़े और दलित छात्रों ने उसे नायक का दर्जा दे दिया है। अब राजद भी…
और पढ़ें »

नदियों के स्रोत ही सूख रहे हैं

पुरुषोत्तम असनोड़ा नवम्बर से मार्च तक हिमाच्छादित रहने वाला उत्तराखण्ड का पामीर फरवरी के पहले सप्ताह में ही बर्फ विहीन है। सितम्बर के बाद पिछले चार महीनों में 4 सेंटीमीटर…
और पढ़ें »

खुद से झूठ बोलती औरतें

बिहार के प्रसिद्ध चित्रकार राजेंद्र प्रसाद गुप्ता की कलाकृति। पिता द्वारा आपने आस पास खींचे गए वृत्त में बंधी गाय की तरह पगहे में लवराई लड़कियां जा सकती हैं दूर…
और पढ़ें »

घर-घर में ‘गब्बर’- आई लाइक इट

अभिनेता सानंद वर्मा टीवी सीरियल 'भाबी जी घर पर हैं' में ‘सक्सेना’ का किरदार निभा रहे एक्टर सानंद वर्मा  घर-घर में अपनी एक अलग पहचान बना चुके हैं। उनका अंदाज…
और पढ़ें »

अब केवटी की बेटी नही पढ़ पायेगी

विपिन कुमार दास ये वाक्या है दरभंगा केवटी प्रखंड बनवारी का। 2 नवम्बर को दरभंगा राज मैदान में प्रधानमंत्री मोदी जी की रैली में अपने बेटे को अकेलेे जाते देख…
और पढ़ें »

महिला शक्ति को हर दिन सलाम करता एक शहर

आधी आबादी पूरी कमान! सत्येंद्र कुमार यादव उत्तर प्रदेश में एक जिला ऐसा है जहां महिला शक्ति का राज है।राजधानी लखनऊ से महज 65 किलोमीटर दूर उन्नाव जिला इन दिनों…
और पढ़ें »

काश! कोई सुन ले दिव्यांश की चीखें

धीरेंद्र पुंडीर दिल्ली के एक निजी स्कूल में दिव्यांश की मौत। ये दिव्यांश की तस्वीर है। एक परिवार को छोड़ दें तो बाकि सब के लिए एक तस्वीर। कुछ देर में…
और पढ़ें »

बांदा के गांव में जिंदा है ‘ठाकुर का कुआं’

आशीष सागर दीक्षित ''आइए महसूस करिए ज़िन्दगी के ताप को मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको  जिस गली में भुखमरी की यातना से ऊब कर मर गई फुलिया…
और पढ़ें »