Archives for माटी की खुशबू - Page 2

माटी की खुशबू

ध्यानपुर धाम में आपका स्वागत है!

अंकिता चावला प्रुथी गुरुदासपुर ज़िले का एक छोटा-सा कस्बा है ध्यानपुर। कस्बा छोटा है पर इस का नाम पंजाब, हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर के कई लोगों के लिए ख़ास मायने रखता…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

बदलाव बाल क्लब-इस धार से ठंडी हवा आती तो है!

ब्रह्मानंद ठाकुर बदलाव बाल क्लब की कहानी कार्यशाला की शुरुआत जितने हलचल भरे वातावरण में हुई समापन उससे कहीं ज्यादा धमाकेदार रहा। बच्चों से साथ वक़्त कैसे बीत गया पता…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

किस्सागोई का आनंद और ‘बात का बतंगड़’ करते बच्चे

बदलाव प्रतिनिधि मुजफ्फरपुर के पियर गांव मे आयोजित बदलाव बाल क्लब की कार्यशाला  का दूसरा दिन पूरी तरह बच्चों के नाम रहा। बच्चों ने पूरी कार्यशाला को मानो 'हाईजैक' कर…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

बात निकली तो है… कितनी दूर तलक पहुंची?

नीतू सिंह कुछ बातें ऐसी होती हैं, तो दिल की गहराइयों से छूकर निकलती हैं और बड़ी दूर तक अपनी छाप छोड़ती है। राजधानी दिल्ली के श्रीराम सेंटर में इस…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

मशरूम की खेती में स्वरोजगार की अपार संभावनाएं

ब्रह्मानंद ठाकुर मशरूम की खेती बंद कमरे और झोपडियों में भी सफलता पूर्वक की जा सकती है। पौष्टिक तत्वों एवं औषधीय गुणों से भरपूर खाद्य पदार्थ होने के कारण आम…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

क्या इस सदी में गंगा वाकई साफ हो पाएगी?

सत्येंद्र कुमार यादव ऋषिकेश में गंगा दिल्ली में 28 मई को एक ई रिक्शा चालक की इसलिए हत्या कर दी गई कि उसने दो युवकों को खुले में पेशाब करने…
और पढ़ें »
चौपाल

बॉलीवुड के लिए अमेरिका की कारोबारी दुनिया को बाय-बाय

एपी यादव एक दौर ऐसा था जब युवाओं को अमेरिका, ब्रिटेन जैसे देश अपनी ओर आकर्षित करते रहे। जिस किसी को विदेश जाने का मौका मिलता वो 'उड़ान' भरने में…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

पूर्णिया के ‘ड्रीम कैचर’ का सपना सच होने को है!

एपी यादव ड्रीम कैचर के निर्देशक संतोष शिवम, अभिनेता धर्मेंद्र के साथ आम इंसान हो या फिर खास, गरीब या फिर अमीर हर किसी में एक समानता जरूर होती है…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

बाल मन, बीमार जानवर और ‘डॉक्टर’!

जूली जयश्री कहते हैं कि बच्चों की कल्पना का संसार अपरिमित होता है। हम बड़े चाह कर भी उनकी इस उड़ान में बराबरी नहीं कर सकते। वे अपनी सोच में…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

देखा एक ख्वाब तो बागों में खिल उठे गुलाब

इफको लाइव से साभार आज कल खेती को हर कोई घाटे का सौदा मानने लगा है। किसान खेतों में दिन रात खून पसीना बहाता है लेकिन आखिर में उसके पास…
और पढ़ें »