Author Archives: badalav - Page 152

चलो ‘गुइयां’, अपन भी अखबार निकालें

सचिन श्रीवास्तव मध्य प्रदेश विज्ञान सभा के पातालकोट स्थित गैलडुब्बा गांव में दीवार अखबार ‘‘गुइयां’’ के विमोचन का साझीदार बनना अपने तरह का सुख रहा।  अखबार बच्चों ने तैयार किया…
और पढ़ें »

मां से मिला देती है ‘मइया’

फोटो- अनीश कुमार सिंह केरवा के पात पर उगेलन सूरूज मल झांके-झुंके... ये गाना घर-घर में बज रहा था लेकिन घर में उदासी छाई थी। मां खरना पर अकेली बैठी…
और पढ़ें »

लोक में बसी बराबरी की चेतना का महापर्व है छठ

रूपेश कुमार आज शाम सूरज देवता को पहला अर्घ्य। आज महापर्व छठ है। एक साल के इंतज़ार के बाद छठ का पर्व आया है। दिल्ली सहित पूरे भारत से परदेसी…
और पढ़ें »

जी हुजूर! रिश्वत जान ले रही है, आप तो तमाशा देखिए

दिवाकर मुक्तिबोध छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार के सवाल पर राज्य सरकार की 'ज़ीरो टॉलरेंस' की नीति है। मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह एवं सरकार के अन्य नुमाइंदे सरकारी एवं गैर-सरकारी कार्यक्रमों में…
और पढ़ें »

गांवों में दरकती शादियां और बिखरती ज़िदगियां

मनीष मनोहर रौसरा निवासी कुमार गौतम की कृति। फेसबुक पेज से साभार। मैं बिहार के सुदूर उत्तरवर्ती जिला सुपौल का रहने वाला हूं और पढाई लिखाई करने के बाद पिछले 11…
और पढ़ें »

एक बार ये लिट्टी खा कर तो देखिए…

अनीश कुमार सिंह विनोद मुजफ्फरपुर के गांव से आकर दिल्लीवालों को चखा रहे हैं लिट्टी का स्वाद। जब पेट में चूहे दौड़ते हैं न साब तो आदमी ये नहीं सोचता…
और पढ़ें »

50 साल से खेतों में ही है उसका बसेरा

जमीन की रखवाली करती जेठिया बाई बरुण के सखाजी छत्तीसगढ़ के चिल्पीघाटी की पश्चिमी तलहटी में धबईपानी के पास 80 वर्षीय महिला जेठिया बाई अपने पूर्वजों के खेतों को कब्जे…
और पढ़ें »

नो क्रेकर्स मुहिम सिर्फ नारों-इश्तहारों तक

धुआं धुआं शहर दिवाली मनाई, हवा में जहर क्यों फैलाई? दिवाली पर मिठाइयां खाकर लोगों ने भले ही मुंह मीठा किया हो लेकिन पटाखे फोड़ कर दिल्ली समेत कई शहरों…
और पढ़ें »

इस दीवाली उसके घर रिद्धि-सिद्धि आई हैं!

पशुपति शर्मा काजू-किशमिश। कोमल फिलहाल इन्हें इसी नाम से पुकारती हैं। आज दीवाली है। आज के दिन हम हमेशा मां से रिद्धि-सिद्धि के किस्से सुनते आए हैं। लेकिन आज बात…
और पढ़ें »

दीवाली बिहारे में… बूझे काहे नहीं ‘शाह-बुझक्कड़’

शंभु झा बिहार चुनाव के नतीजों पर आपने काफी विश्लेषण और समीक्षाएं अब तक पढ़ ली होंगी। बड़े बड़े राजनीतिक पंडित, जिनके आकलन और अऩुमान चुनाव में धरे रह गए, अब फिर…
और पढ़ें »