JAIPRAKASH

अरुण प्रकाश

बिहार वही है। संपूर्ण क्रांति की अलख जगाने वाला बिहार। धीरे-धीरे समाजवाद आई बबुआ। समाजवाद तो नहीं आया अलबत्ता सियासत संप्रदायवाद के सम पर ज़रुर आ गिरी। केंद्रीय मुद्दे गोहत्या और गोमांस हो चले। कौन बीफ़ खाता है, कौन नहीं खाता, किसे खाना चाहिए, किसे नहीं ऐसे सवाल बहस के केंद्र में आ गए. विकास के नारे और दावे दरकिनार कर दिए गए….

राजनीति इस हद तक गर्त में जा गिरेगी भला किसने सोचा था। आज़ादी के पहले की कहानियों में नई पीढ़ी ने ज़रुर पढ़ा होगा कि अमुक जगह पर गाय या सूअर के मांस को फेंक, अमुक पार्टी के लोगों ने दंगा फैला दिया। लेकिन स्वातंत्रोत्तर भारत में ऐसी बातें हमेशा से बेमानी साबित हुईं… सवाल बड़ा है कि क्या बिहार का चुनाव किसी भी पार्टी के लिए देश की एकता और अखंडता से भी ज्यादा मायने रखता है.. चुनाव जीतने के लिए क्या नेता किसी भी हद तक जा सकते हैं….दादरी में जो कुछ भी हुआ, या यूं कहें कि कराया गया वो भारत की छवि के लिए कत्तई मुनासिब नहीं। ये हर उस इंसान को विचलित कर रही है जिनकी संवेदनाएं अभी ज़िंदा हैं।

lalu-modiसाहित्य जगत में मची खलबली को इसी चश्मे से देखा जा सकता है। आए दिन बुद्धिजीवी अपने अवार्ड लौटा रहे हैं। खामोशी से दर्ज कराई जा रही इस मुखालफत को नोटिस करने की फुर्सत किसे है… लेकिन जो हो रहा है उसे हल्के में लेने की गलती भारी पड़ सकती है। मुल्क का मुस्तकबिल ख़तरे में पड़ सकता है। दरअसल ये फासीवाद की आहट है जिसने प्रबुद्ध तबके को विचलित कर रखा है। इतिहास गवाह है कि फासिस्ट ताक़तों को किसी भी क़ीमत पर शिकस्त कबूल नहीं होती। वो हर हाल में जीत चाहते हैं। लाशों की सीढियों पर कामयाबी का आसमान छूना चाहते हैं…ऐसे में एक अखलाख की कौन कहे, अभी कितने अखलाखों की जान खतरे में पड़ सकती है उसका अनुमान लगाना भी मुश्किल है। मजहब के नाम पर जिस तरह की कट्टरता दिखाई पड़ने लगी है उसे और हवा दी जाएगी।

जब ये कट्टरता उन्माद का रूप ले लेगी तो फिर इसी भीड़ के ज़रिए विरोध में उठने वाली आवाज़ों को दबा दिया जाएगा। उम्मीद की जानी चाहिए कि बिहार की जागरुक जनता इन बातों को समझेगी। वो ऐसे हालात कभी पैदा नहीं होने देगी जिससे इमर्जेंसी वाला टाइम दोबारा लौट सके। ऐसी शक्तियों को पूरी सख्ती से रोक सके तो जेपी को ये सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी।

arun profile1


अरुण प्रकाश। उत्तरप्रदेश के जौनपुर के निवासी। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र। इन दिनों इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में सक्रिय। आप उनसे 9971645155 पर संपर्क कर सकते हैं।


 

बीमार बिहार की सुनें पुकार…. पढ़ने के लिए क्लिक करें


 

संबंधित समाचार