Tag archives for सच्चिदानंद जोशी

आईना

अमजद साहब! 34 साल बाद कुछ यूं मिले… कैसा लगा आपको?

सच्चिदानंद जोशी बात आज से चौंतीस (34) बरस पहले की होगी। उन दिनों एमए के अंतिम वर्ष की पढ़ाई कर निकला था। संगीत और नाटकों का शौक था। नाटक किया…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

किस्सों से किचन तक हर दिन कुछ नया परोसती ‘हमारी आई’

पशुपति शर्मा इंडिया इंटरनेशनल सेंटर, शुक्रवार 30 मार्च की शाम। 'आई' के पद्मश्री तक के सफ़र पर एकाग्र एक कार्यक्रम। आई यानी मालती जोशी। 4 जून 1934 को औरंगाबाद में…
और पढ़ें »
चौपाल

देनहार कोहू और है …

सच्चिदानंद जोशी नवरात्रि की शुभकामनाओं के बीच एक किस्सा कुछ अलग सा। हम जानते हैं कि नवरात्रि के पहले अमावस्या आती है। सर्वपितृमोक्ष अमावस्या। इसका बहुत महत्व है। इस दिन…
और पढ़ें »