Tag archives for श्रद्धांजलि

माटी की खुशबू

‘अंतरात्मा की पीड़ित विवेक-चेतना’ के कवि को अलविदा

उदय प्रकाश 'आत्मजयी' वह कविता संग्रह था, जिसके द्वारा मैं कुंवर नारायण जी की कविताओं के संपर्क में आया. तब मैं गाँव में था और स्कूल में पढ़ता था. 'आत्मजयी'…
और पढ़ें »
चौपाल

कुंदन शाह को ‘जाने भी दो यारों’

मयंक सक्सेना कुंदन शाह से दिल्ली में एक पत्रकार के तौर पर मिलना हुआ। पहली बार जब मिला था, तो छात्र था। दूसरी बार पत्रकार।ऑफ द रिकॉर्ड चाय पीते हुए, उनसे…
और पढ़ें »
आईना

कृष्ण से सम्मोहन वाला सितारा अब गगन में चमकेगा!

देवांशु झा ऐसा सितारा कभी-कभार चमकता है, जिसमें किसी हॉलीवुड हंक सी अदा हो, किसी आदर्श पौराणिक भारतीय चरित्र जैसा सुघड़ रूप हो, जो नायक और खलनायक दोनों ही किरदारों को…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

ऐसे साक्षात्कारों से ‘मुस्कान’ चुराता था कामता

अभिनेता सानंद वर्मा पिछले कई घंटों से सोशल मीडिया पर कामता सिंह के निधन की सूचना के बाद पत्रकार साथियों के गमजदा संदेश और पोस्ट ने हमें अंदर तक हिलाकर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

“सरजी एक आइडिया है” वाला कामता चला गया

संजय बिष्ट के फेसबुक वॉल से दुनिया किसी के न रहने के बाद भी चलेगी... वक्त दौड़ेगा वैसे ही आंसूओं को कुचल कर...दुखों के पत्थरों को समय वैसे ही चूर-चूर करेगा...लेकिन…
और पढ़ें »
आईना

बहती हुई नदी थे अनुपम जी

राकेश कायस्थ अनुपम जी को मैं बहुत अच्छी तरह जानता था। लेकिन कभी मुलाकात नहीं हुई। एक दिन अचानक उनके किसी सहयोगी (शायद पंकज) ने मुझे फेसबुक मैसेज किया-- अपना…
और पढ़ें »
चौपाल

आज भी खरे हैं ‘अनुपम मिश्र’

पुष्यमित्र सुबह से मन अनुपम मिश्र जी की यादों में अटका है। एक पल के लिये भी खुद को मुक्त नहीं कर पा रहा। वैसे तो कभी उनसे मिलना नहीं…
और पढ़ें »
चौपाल

अकेलेपन के अंधेरों में रचा गरीबों की जिंदगी का उल्लास गीत

धीरेंद्र पुंडीर जयललिता दक्षिण भारत के राज्य तमिलनाडु की मुख्यमंत्री। रजत पट की अभिनेत्री और अभिनेता से नेता बने एमजीआर की विरासत संभालने वाली नेत्री। भ्रष्ट्राचार के आरोपों से घिरीं।…
और पढ़ें »

रजत! अपनों के ‘आंसू’ की फिक्र भी कर लेते भाई

पंकज त्रिपाठी आजतक का युवा रिपोर्टर रजत सिंह। करीब 29 साल की उम्र में ही इस होनहार साथी ने बहुत कुछ हासिल कर लिया था। सबसे ज़्यादा लोगों का प्यार। 24…
और पढ़ें »
चौपाल

नहीं रहे प्रभाकर श्रोत्रिय

श्रोत्रिय जी को विनम्र श्रद्धांजलि। उनके निधन का समाचार सुन कर गहरा आघात लगा। उनकी बीमारी की सूचना अभी कुछ दिन पहले ही मिली थी। उनसे भेंट न हो पाने…
और पढ़ें »
12