Tag archives for शिरीष खरे

चौपाल

मैया नहीं मालगाड़ी बन गई है नर्मदा

शिरीष खरे जब पहली यात्रा समाप्त होने की कगार पर होती है तो मेरे भीतर दूसरी यात्रा तेजी से आगे बढ़ रही होती है। यह होती है विचारों की यात्रा।…
और पढ़ें »
चौपाल

बनपुरी के डिजिटल स्कूल बनने की कहानी गजब-दिलचस्प है!

शिरीष खरे बारह साल पहले जब यहां यह स्कूल नहीं था तब एक आदमी ने अपनी जमीन दान कर दी। लेकिन, स्कूल के लिए जब भवन उपलब्ध नहीं था तब…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

सरकार को एहसास नहीं-भूख क्या होती है?

शिरीष खरे शिरीष खरे की बतौर पत्रकार यात्रा की ये चौथी किस्त है। मेलघाट में उन्होंने महसूस किया कि भूख क्या होती है? विचार यात्रा का सिलसिला फिर से शुरू…
और पढ़ें »
चौपाल

मेलघाट में भूख से मरते बच्चे और 90 के दशक का सन्नाटा

शिरीष खरे मेलघाट में शिरीष, साल 2008 शिरीष खरे की बतौर पत्रकार यात्रा की ये तीसरी किस्त है। मेलघाट से लौटते हुए ट्रेन में उनकी विचार यात्रा का सिलसिला फिर…
और पढ़ें »
चौपाल

पत्रकार के लिए हत्या की धमकी ही सबसे बड़ी चुनौती नहीं होती

शिरीष खरे शिरीष खरे, मेलघाट की एक तस्वीर (2008) ट्रेन की सामान्य गति से मुंबई की ओर लौटते हुए मेलघाट में जो घटा उसके बारे में सोच रहा हूं। जलगांव…
और पढ़ें »
आईना

पत्रकारिता की हड़बड़ी और मेरा दृष्टिदोष

शिरीष खरे कुछ बनने की जल्दी में हुआ दृष्टि-दोष, फिर एक दिन अचानक एक घटना से कि जाना निकट की चीजें दूर या दूर की चीजें निकट क्यों दिखाई दे रही हैं। ''जर्नलिस्ट बनने…
और पढ़ें »