देश के गांधी अड्डों की सूरत बदलनी चाहिए

संदीप नाईक एक ही है सेवाग्राम देश में, एक है कस्तूरबाग्राम इंदौर में और फिर देशभर में फैले हैं –

और पढ़ें >

सेवाग्राम का सबक- स्वच्छता, प्रार्थना और स्वावलंबन

संदीप नाईक बहुत सारी खराब बातों के बावजूद बहुत सारी अच्छी बातें सेवाग्राम के आश्रम में मौजूद हैं, इनमें से

और पढ़ें >

गांधी पर बात करने वर्धा में जुटे पत्रकार साथी

संदीप नाईक  मध्यप्रदेश का एक पैरवी समूह जो विकास, कुपोषण , शिक्षा और स्वास्थ्य के मुद्दों पर गत 15 वर्षों

और पढ़ें >

मीडि‍या, बच्‍चे और असहि‍ष्‍णुता पर ओरछा में होंगी बातें

बदलाव प्रतिनिधि मीडिया के साथियों के साथ बैठकर कुछ महत्‍वपूर्ण मुद्दों पर नया जानने, आपसी समझ बनाने, एक—दूसरे के विचारों को समझने, अपने

और पढ़ें >

विकास सोने की कटारी है, तो क्या उसे अपने पेट में भोंक लें ?

राकेश मालवीय सत्‍तर साल में विकास के किसी भी आयाम ने ‘डिलीवर’ नहीं किया है, इसे स्‍वीकारने में हमें इतनी

और पढ़ें >

कान्हा करेगा ‘सुदीप’ तेरा इंतज़ार, हो सके तो आना ज़रूर

राकेश कुमार मालवीय उफ ! वक्त तुम कितने बुजदिल हो। दो साल पहले सुदीप पत्रकारिता में एक नई जगह पर

और पढ़ें >

विकास के मॉडल पर बात करनी हो तो चलिए ‘कान्हा’

“ लोगों के बीच जाइए। उनके साथ रहिए। उनसे सीखिए। उन्हें स्नेह दीजिए। शुरू करें वहां से जो वे जानते हैं।

और पढ़ें >