‘लाल परी’ की चोरी और एक रंगकर्मी

अनिल तिवारी अनिल तिवारी के रंग अनुभवों की ये सीरीज बदलाव पर बीच-बीच में बाधित होती रही है। निजी व्यस्तताओं

और पढ़ें >

जब सेल्युकस को पर्दे के पीछे गिफ्ट में मिला पार्कर पेन

ब्रह्मानंद ठाकुर बात 1965 की है। मैंने गांव के बेसिक स्कूल से सातवीं कक्षा पास कर उसी कैम्पस के सर्वोदय

और पढ़ें >

वर्ल्ड थियेटर डे- हम सब के दिल में बसा है ‘नटकिया’

पशुपति शर्मा वर्ल्ड थियेटर डे। रंगमंच के उत्सव का एक दिन। वो उत्सवधर्मिता जो रंगकर्म में स्वत: अंतर्निहित है। यकीन

और पढ़ें >

प्रभात गांगुली ने क्यों छोड़ा ग्वालियर, ये किस्सा फिर कभी

अनिल तिवारी बीआईसी के मुख्य नाट्य निर्देशक थे सत्य पाल सोलंकी और श्री के सी वर्मा। सोलंकीजी एक नाट्य संस्था

और पढ़ें >

वीरान बिड़ला नगर में बिखरी ‘बुद्धू’ की कुछ यादें

अनिल तिवारी ग्वालियर के बिड़ला नगर में दिन बीत रहे थे। दादागीरी के साथ मेरी जिन्दगी में रंगमंच की अहमियत

और पढ़ें >

जब मम्मी-पापा ने कर दिया घर-बदर

अनिल तिवारी अब थोड़ा घर की तरफ रुख करते हैं। इन सारी गतिविधियों से घरवाले बहुत तंग आ गये थे।

और पढ़ें >

फ्लाइंग किस पर बिग फाइट

अनिल तिवारी वरिष्ठ रंगकर्मी अनिल तिवारी की फेसबुक सीरीज को हम साथियों से साझा कर रहे हैं। इसमें एक तारतम्यता

और पढ़ें >

श्मशान में जीवन का संगीत और सौंदर्य

पशुपति शर्मा 20 जनवरी, 2018 की उस दोपहर, राजधानी के मंडी हाउस इलाके में ‘अलग मुल्क के बाशिंदे’ से मुखातिब

और पढ़ें >

ग्वालियर के ‘गुंडे’ ने किसी रंगकर्मी से बदसलूकी नहीं की

अनिल तिवारी करीब 1962 के दौरान पिता जी का तबादला ग्वालियर हो गया और मेरा दाखिला उस समय के सर्वश्रेष्ठ

और पढ़ें >

राजधानी दिल्ली में ‘अलग मुलक का बाशिंदा’

पशुपति शर्मा राजकमल नायक। रंगमंच का ऐसा साधक, जिसने मंच पर तो एक बड़ी दुनिया रची लेकिन सुर्खियों के ताम-झाम

और पढ़ें >