Tag archives for रंगकर्म

आईना

एम के रैना का नाटक गांधी को बनाता है बच्चों का ‘रॉकस्टार’

ललित सिंह                        जब- जब समाज में हिंसा, दर्प और नैराश्य की स्थिति हावी होने लगती है तब एक रौशनी…
और पढ़ें »
गांव के रंग

रचना प्रक्रिया का ‘अधूरा साक्षात्कार’

पशुपति शर्मा बंसी कौल, रंग निर्देशक 23 जुलाई को ग्रेटर नोएडा में बंसी दा से एक और मुलाकात। कमरे में बिस्तर पर लेटी माताजी और बाहर सोफे पर बैठे बेचैन…
और पढ़ें »
चौपाल

बनारस में कथानक को इम्प्रेशन में बदलता ‘मैकबेथ’

संगम पांडेय व्योमेश शुक्ल की नई प्रस्तुति ‘बरनम वन’ का कलेवर मैकबेथ की तमाम होती रही प्रस्तुतियों में काफी मौलिक और नया है। यह खाली-मंच पर पश्चिमी ऑपेरा की मानिंद…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

‘एक दिन के मेहमान’ के मेजबानों का शुक्रिया

पशुपति शर्मा   अभिनेता, नाटकों के बाद हमेशा आत्ममुग्ध हो जाया करते हैं। कभी-कभी मैं भी इसका शिकार हो जाता हूं। लेकिन मुझे इसका बखूबी एहसास है कि रंगमंच एक…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

ग़ाज़ियाबाद में आज ‘एक दिन के मेहमान’ का मंचन

  गाजियाबाद के इंद्रप्रस्थ इंजीनियरिंग कॉलेज में आज दिनांक 17 जून दिन रविवार की शाम 7 बजे एक दिन का मेहमान की प्रस्तुति की जा रही है। संस्कृति मंत्रालय, केंद्र…
और पढ़ें »
चौपाल

18 साल की उम्र में ‘बजाया राजा का बाजा’

अनिल तिवारी वरिष्ठ रंगकर्मी अनिल तिवारी की ये सीरीज फेसबुक पर आ  रही है और उसे देर-सवेर हम भी बदलाव पर साझा कर रहे हैं। वो इस सीरीज में 50…
और पढ़ें »
महानगर

य़थार्थवाद के ठप्पे को ध्वस्त करता रवि तनेजा का कोणार्क

संगम पांडेय रवि तनेजा की प्रस्तुति कोणार्क अकेला ऐसा नाटक है जिसे मैंने देखने के पहले ही पढ़ रखा था। कुछ लोग इसे व्यवस्थित ढंग से लिखा गया हिंदी का…
और पढ़ें »
आईना

रंगकर्म की दुनिया, निजी ज़िंदगी और स्त्री पात्र

अनिल तिवारी वरिष्ठ रंगकर्मी अनिल तिवारी अपने रंगकर्म के 50 बरस के अनुभवों को फेसबुक पर साझा कर रहे हैं। हम इस सीरीज को बदलाव के पाठकों के साथ साझा…
और पढ़ें »
आईना

लड़की खोजो अभियान में दर-दर भटका रंगकर्मी

अनिल तिवारी छोटे शहरों में नाटकों के लिये महिला कलाकारों की हरदम कमी रही है। इस भीषण कमी का सामना एक समय बीआईसी को भी करना पड़ा। यह बीआईसी के…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

राजा शिव छत्रपति सिर्फ महानाट्य नहीं है!

सच्चिदानंद जोशी जो लोग राजा शिव छत्रपति को सिर्फ एक महानाट्य मान कर देखने जा रहे हैं, वो एक भारी भूल कर रहे हैं। राजा शिव छत्रपति एक नाटक से…
और पढ़ें »