Tag archives for रंगकर्म

मेरा गांव, मेरा देश

लड़की खोजो अभियान में दर-दर भटका रंगकर्मी

अनिल तिवारी छोटे शहरों में नाटकों के लिये महिला कलाकारों की हरदम कमी रही है। इस भीषण कमी का सामना एक समय बीआईसी को भी करना पड़ा। यह बीआईसी के…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

राजा शिव छत्रपति सिर्फ महानाट्य नहीं है!

सच्चिदानंद जोशी जो लोग राजा शिव छत्रपति को सिर्फ एक महानाट्य मान कर देखने जा रहे हैं, वो एक भारी भूल कर रहे हैं। राजा शिव छत्रपति एक नाटक से…
और पढ़ें »
आईना

3 घंटे और 2 इंटरवल वाले नाटकों का दौर

अनिल तिवारी मेरे कुछ मित्रों ने एपीसोड 8 के बाद पूछा कि बीआईसी  किस तरह के नाटक किया करती थी? तो मैं सभी मित्रों को बता देना चाहता हूँ कि…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

व्यक्ति की इच्छाओं का द्वंद्व- हयवदन

संगम पांडेय अक्षरा थिएटर में लाइट्स वगैरह की कई असुविधाएँ भले हों, पर इंटीमेट स्पेस में प्रस्तुति का घनत्व अपने आप काफी बढ़ जाता है। फिर वशिष्ठ उपाध्याय की प्रस्तुति…
और पढ़ें »
आईना

फाइव स्टार सुविधाओं वाला शुरुआती रंगकर्म

अनिल तिवारी 1968 में 15 बर्ष की उम्र में 'टी पार्टी' नाटक में अभिनय करने के पश्चात मील एरिया में यह चर्चा गर्म होने लगी कि अनिल तिवारी नाटकों में…
और पढ़ें »
आईना

‘टी पार्टी’ से बन ही गये हम नचकैया

अनिल तिवारी 1968 में जब मेरी उम्र मात्र 15 वर्ष की थी तब तक मैं स्कूल के शिक्षकों के लिये सर दर्द का सबब बन चुका था। उस समय हमारे क्लास…
और पढ़ें »
चौपाल

रंगकर्मी की संवेदना और गृहस्थी में कैद मां

अनिल तिवारी वरिष्ठ रंगकर्मी अनिल तिवारी जी ने अपनी रंग यात्रा को फेसबुक पर एक सीरीज में साझा किया है। उनका ये सिलसिला जारी है। एक रंगकर्मी की ज़िंदगी के…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

आजमगढ़ का शारदा टाकीज बना रंगमंच का नया ठीहा

संगम पांडेय आजमगढ़ के उजाड़ और खस्ताहाल शारदा टाकीज को अभिषेक पंडित और ममता पंडित ने रंगमंच के लोकप्रिय ठीहे में बदल दिया है। सिनेमा मालिकों से पाँच साल के…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

भारत रंग महोत्सव में दिखेगा मैथिली रंगकर्म का ‘मेलोरंग’

अनु गुप्ता भारत एक ऐसा देश है जहां हर सौ  कदम पर भाषा बदल जाती है। इस देश को अनेक और विशेष भाषाओं का संग्रहालय बोला जाए तो गलत न होगा।…
और पढ़ें »
आईना

इंटरनेट के दौर में दो पीढ़ियों के दो अलग-अलग युग

संगम पांडेय जो दर्शक वही-वही नाटक देख-देख कर ऊब चुके हों उन्हें निर्देशक सुरेश भारद्वाज की प्रस्तुति ‘वेलकम जिंदगी’ देखनी चाहिए। इसमें परिहास का पुट देते हुए आज के मध्यवर्गीय…
और पढ़ें »
12