Tag archives for माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय

परब-त्योहार

‘एक दिन के मेहमान’ के मेजबानों का शुक्रिया

पशुपति शर्मा   अभिनेता, नाटकों के बाद हमेशा आत्ममुग्ध हो जाया करते हैं। कभी-कभी मैं भी इसका शिकार हो जाता हूं। लेकिन मुझे इसका बखूबी एहसास है कि रंगमंच एक…
और पढ़ें »
आईना

न्यूज़ संस्थान अपनी विचारधारा सार्वजनिक कर दें-अजय कुमार

चित्रा अग्रवाल  “अगर न्यूज़ ऑर्गनाइजेशन्स को अपनी विश्वसनीयता बरकरार रखनी हैं, तो उन्हें अपनी आईडियोलॉजीस, अपनी विचारधारा को सार्वजनिक कर देना चाहिए। क्योंकि हम माने या ना माने, एक पत्रकार…
और पढ़ें »
आईना

‘अलिफ़’-तालीम की नसीहत, मोहब्बत का फलसफा

पशुपति शर्मा जैग़म इमाम की फिल्म अलिफ़ अब सिनेमाघरों में लग चुकी है। करीब 6 महीने पहले जैग़म ने फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग दिल्ली में रखी थी। उनके बुलावे पर…
और पढ़ें »

कान्हा करेगा ‘सुदीप’ तेरा इंतज़ार, हो सके तो आना ज़रूर

राकेश कुमार मालवीय सुदीप (बीच में)। रामकृष्ण डोंगरे और राकेश मालवीय के साथ। उफ ! वक्त तुम कितने बुजदिल हो। दो साल पहले सुदीप पत्रकारिता में एक नई जगह पर…
और पढ़ें »

होने और न होने का अफसोस

28 अगस्त 2010। विनय के अलविदा कहने के चंद दिनों बाद पूर्णिया में हुए आयोजन की तस्वीर। साथी विनय तरुण के नाम पर एक और आयोजन रायपुर में हो रहा…
और पढ़ें »

गाता रहे फूलों सा ये दिल…

पुष्पेंद्र पाल सर। कहते हैं कि पीपी सर का है अंदाजे बयां और। प्रशांत दुबे के फेसबुक वॉल से। हमारे आपके आस-पास कई लोग ऐसे होते हैं, जिनकी जिंदादिली एक…
और पढ़ें »