Tag archives for मां

चौपाल

बचवा, रोज सबेरे मुंह धोके एगो ढूंढी खात रइ ह

उर्मिलेश उर्मिल के फेसबुक वॉल से माई की आज (28 अगस्त) पुण्यतिथि है। उसे गये आज पूरे 15 साल हो गये। बाबू यानी पिता जी तो बहुत पहले, सन् 1985…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

सासू मां से प्रेम किया तो सारा डर भाग गया

जूली जयश्री हाई स्कूल में हमारे एक टीचर थे , पाठक जी पढाते तो अंग्रेजी थे लेकिन अंग्रेजी से ज्यादा उनपर बेटियों में संस्कार बोने का दायित्व था ! उनका फेवरेट डॉयलाग…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

मां जैसा कोई डांटता नहीं

रुपेश कुमार मां जैसा  कोई डांटता नहीं मां जैसा कोई  मनाता भी नहीं ! सबसे छुपा कर जतन से बचा कर वो फटोना औ मिठाई कोई  खिलाता भी नहीं !…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

मेरी मां ने शिकायत करना ही नहीं सीखा

सर्बानी शर्मा माया शर्मा, सर्बानी शर्मा की मां मेरी मां। मां नहीं भाभी। वो हमारी मां नहीं बन पाईं कभी। हम उसे बचपन से ही भाभी कहकर पुकारते रहे हैं।…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

… और मां के साथ मर गया मनुष्य

देवांशु झा बेटे ने बूढ़ी मां से कहा मां चलो, सूर्य नमस्कार करते हैं लगभग अपंग मां सहज तैयार हुई बहू ने खुश होकर दरवाजा खोला बेटे ने मां को…
और पढ़ें »
आईना

डेढ़ साल बाद लौटा तो घर में पड़ा था मां का कंकाल!

नीरज बधवार बिहार के मशहूर चित्रकार राजेंद्र प्रसाद गुप्ता की कृति मुम्बई से जुड़ी एक ख़बर पढ़ी। बाद में टीवी चैनल्स पर भी उससे जुड़ी एक-आध रिपोर्ट देखी। एक शख्स…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

मां की ‘ख़ामोशी’ की भाषा समझते हैं हम

सर्बानी शर्मा माया शर्मा, सर्बानी शर्मा की मां मेरी मां। मां नहीं भाभी। वो हमारी मां नहीं बन पाईं कभी। हम उसे बचपन से ही भाभी कहकर पुकारते रहे हैं।…
और पढ़ें »

अख़बार के 8 पन्नों में मां की ममता का संसार

डॉ प्रकाश हिंदुस्तानी विजय मनोहर तिवारी ने अपनी मां श्रीमती सावित्री तिवारी को अलग तरीके से विदाई दी। उन्होंने अपनी मां की स्मृति में 8 पेज का वर्ल्ड क्लास का…
और पढ़ें »

ज़िंदगी इतने बड़े इम्तिहान क्यों लेती है ?

कीर्ति दीक्षित कई दिनों से फेसबुक पर उसकी पीहू और उसे देख रही हूं। एक बार नहीं दर्जनों बार। अखबारों में इंटरव्यू पढ़ी। टीवी पर उसकी बातें सुनी। फेसबुक पर…
और पढ़ें »

मुज़फ़्फ़रनगर की ‘भारत मां’

अश्विनी शर्मा मीणा मां के घर में पूरा 'हिंदुस्तान' जिस मुजफ्फरनगर में धर्म के नाम पर मारकाट मची। जब लोग हिंदू-मुस्लिम  के नाम पर मरकट रहे थे, मासूम बच्चों पर…
और पढ़ें »
12