Tag archives for महिला अधिकार

अतिथि संपादक

माथे पर पृथ्वी को उठा, सूरज की अगवानी करती स्त्री

डाॅ॰ संजय पंकज स्त्री का हर रूप सृजनधर्मी और कल्याणकारी है। वह परिवार से लेकर राष्ट्र-निर्माण तक में अपनी महत्त्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करती है। कार्यक्षमता और अकूत शक्ति से…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

ऐसे दरिंदे न पिता, न पुत्र, न भाई और पति तो कतई नहीं!

देवांशु झा बुलंदशहर का एक वीडियो सामने आया है। जिसमें भरी पंचायत के सामने एक व्यक्ति अपनी पत्नी को पेड़ से बांधकर बेल्ट से पीट रहा है। कारण बताना जरूरी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

आधी आबादी के हक़ की संघर्ष गाथा

आओ करें मंथन- कहीं हमसे कोई चूक तो नहीं हो रही!  ब्रह्मानन्द ठाकुर 8  मार्च का दिन दुनिया में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज से…
और पढ़ें »
चौपाल

उनकी ‘सज्जनता’ की परतों में छिपे हैं स्त्री के कई ज़ख़्म

वर्षा निगम बिहार के मशहूर चित्रकार राजेंद्र प्रसाद गुप्ता की कृति। पिछले दिनों मेरी मुलाकात एक सज्जन से हुई। सज्जन, इतने सज्जन की क्या कहूं। मुझे लगता है कि रामायण…
और पढ़ें »