Tag archives for महाराष्ट्र

गांव के नायक

कोरोना संकट से कैसे निपट रहे हैं राज्य ?

टीम बदलाव कोरोना संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने करीब लाख करोड़ का राहत पैकेज दिया है तो वहीं राज्य भी संकट की इस घड़ी में अपनी जनता…
और पढ़ें »
चौपाल

झाड़ीपट्टी के ‘सितारों’ का अपना संघर्ष है- अनिरुद्ध वनकर

अनिरुद्ध वनकर अक्सर जब हम महाराष्ट्र की लोक कला शैलियों की बात करते हैं तो हमारे जेहन में ‘तमाशा’, गोंधल, पोवाडा, और कीर्तन की परंपरा आती है। पर शायद काफी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

सकारात्मक बदलावों को खोजती शिरीष की किताब “उम्मीद की पाठशाला”

बरुण सखाजी ढहते सरकारी स्कूलों में से उम्मीदें खोजती शिरीष खरे की "उम्मीद की पाठशाला" शिक्षा क्षेत्र की अहम किताब है। वे महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गोवा, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान के स्कूलों…
और पढ़ें »
आईना

किसानों के ‘शांति मार्च’ का पैगाम समझिए फडणवीसजी

बब्बन सिंह 12 मार्च की शाम को अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में किसानों का लॉन्ग मार्च महाराष्ट्र सरकार के लिखित आश्वासन के बाद खत्म हो गया. हाल के…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

अन्नदाता के इस आंदोलन को सलाम!

विकास मिश्रा महाराष्ट्र के इस किसान आंदोलन ने बहुत कुछ सिखाया है। पहला तो ये कि हक़ के लिए आंदोलन कैसे करें। 40 हजार से ज्यादा किसान थे, लेकिन न…
और पढ़ें »
चौपाल

सांगली की रानमला बस्ती के स्कूल के रंग

शिरीष खरे एक छोटे-से कमरे के एकमात्र दरवाजे पर हर दिन सुबह-सुबह छोटे बच्चे एक सुंदर रंगोली बनाते हैं, जो अंग्रेजी के किसी एक अक्षर पर आधारित होता है। जैसे…
और पढ़ें »
चौपाल

सांगली का मादलमुठी शाला- एडुकेशन मॉडल के 8 दशक

शिरीष खरे "देश भर के गांवों में ऐसा स्कूल मिलना मुश्किल है।"- यह दावा है मादलमुठी शाला (सांगली, महाराष्ट्र) के मुख्य अध्यापक बालासाहेब नाथाजी आडके का। उन्हें अपनी बात पर…
और पढ़ें »

‘बंजर जमीन’ पर उम्मीद की एक बूंद!

किसानों के बीच नाना पाटेकर एपी यादव की रिपोर्ट भादो का महीना अपनी ढलान पर है, किसान आसमान में टकटकी लगाए बैठा है, धरती फटती जा रही है, जमीन बंजर…
और पढ़ें »

रूठे बदरा, सूखी ज़मीन… देखो न सरकार

अरुण प्रकाश दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश की विडंबना कुछ ऐसी कि एक सूबे के चुनाव में सब कुछ भूल सा गया है । एक राज्य के चुनाव के…
और पढ़ें »