शिरीष खरे बीजापुर से आगे महाराष्ट्र के पश्चिमी छोर की ओर बढ़ा तो एक अलग ही नजारा दिखा ।  जितनी दूर तक देखो उसी अनुपात में उतनी दूर तक खाली-खाली…
और पढ़ें »