Tag archives for बिहार चुनाव

चौपाल

चुनावी समर के बीच ‘स्वप्नलोक’ में ‘योगी’ से साक्षात्कार

ब्रह्मानंद ठाकुर कभी-कभी सपने भी अजीब होते हैं। अजीब इसलिए कि ऐसे सपनों के कोई हाथ-पैर नहीं होते और यथार्थ से दूर दूर तक इनका कोई रिश्ता नहीं होता। आजकल…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

सियासी तस्वीर बदलने के लिए आधी आबादी का एक और कदम

पुष्यमित्र पिछले दिनों चुनावी यात्रा के दौरान जब मैं पूर्णिया जिले के धमदाहा अनुमंडल मुख्यालय में किरण देवी से मिल रहा था, तब तृणमूल कांग्रेस द्वारा लोकसभा चुनाव में 40…
और पढ़ें »

दीवाली बिहारे में… बूझे काहे नहीं ‘शाह-बुझक्कड़’

शंभु झा बिहार चुनाव के नतीजों पर आपने काफी विश्लेषण और समीक्षाएं अब तक पढ़ ली होंगी। बड़े बड़े राजनीतिक पंडित, जिनके आकलन और अऩुमान चुनाव में धरे रह गए, अब फिर…
और पढ़ें »

बीजेपी का ‘चाणक्य’ क्यों फेल हो गया?

बिहार के चुनाव हो गए। नीतीश कुमार लगातार तीसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे। लालू यादव की पार्टी दस साल के वनवास के बाद सत्ता में लौटेगी। लालू के दोनों…
और पढ़ें »

एक और चांस पर नीतीश का डांस

दिल्ली के बाद बिहार में बीजेपी की बड़ी हार, फिर से नीतीश कुमार। एक बड़ी जीत के साथ नीतीश तीसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे। पीएम मोदी, अमित शाह ने नीतीश कुमार…
और पढ़ें »

इस ‘घाव’ को अब पक ही जाने दें!

सचिन कुमार जैन फोटो-सचिन कुमार जैन के फेसबुक वॉल से मैं दिल से चाहता हूँ कि बिहार में उनकी जबरदस्त जीत (विजय नहीं) हो। मैं चाहता हूँ कि वे मांस पर…
और पढ़ें »

बिहार में किसकी दीवाली, किसका दिवाला?

अगर अग्जिट पोल सही हुए तो बिहार में किसकी दिवाली मनेगी और किसका दिवाला निकलेगा? फिलहाल सियासी दलों के लिए ये लाख टके का सवाल बना हुआ है। आखिरी चरण…
और पढ़ें »

बाय-बाय बनैनिया ! तेरी हाय की फिक्र किसे है?

पुष्यमित्र महज पांच साल पहले कोसी नदी के किनारे एक खूबसूरत और समृद्ध गांव था बनैनिया। मिथिलांचल और कोसी के इलाकों को जोड़ने के लिए जब महासेतु बना तो बनैनिया…
और पढ़ें »

चुनावी महाभारत ‘बेईमान’… फिर भी नेताजी ‘अच्छे आदमी’ !

पुष्यमित्र शिकवा शिकायत क्या बतियाएं, वोटिंग कर दे रहे हैं। फोटो साभार- बीबीसी “हमारे यहां के चुनावी माहौल के बारे में क्या जानना है? यह बात तो लगभग जग-जाहिर है…
और पढ़ें »

बिहार के रण में मीडिया के रणबांकुरे

एपी यादव चुनाव प्रचार करते अनुरंजन झा। बिहार की चुनावी चासनी में हर कोई डूबा है। बस इंतजार है तो 8 नवंबर का जब इस चासनी में पककर बिहार का…
और पढ़ें »