Tag archives for बांदा

मेरा गांव, मेरा देश

ऐ गांव विकास चाहता है, बता तेरी जाति क्या है?

आशीष सागर दीक्षित हिंदुस्तान आजादी की 70वीं सालगिरह मनाने जा रहा है। एक बार फिर देश के मुखिया लालकिले की प्राचीर से गांव को शहर बनाने का सपना दिखाएंगे। ऊर्जा…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

कटरा को सांसद गोद तो लिए हैं लेकिन ‘आदर्श’ कुछ भी नहीं है !

आशीष सागर दीक्षित केंद्र में बीजेपी की सरकार आई तो प्रधानमंत्री मोदी ने देश के गाँवो को बड़ा सपना दिखाया। उन्होंने अपने साथ-साथ सभी निर्वाचित सांसद के लिए निर्वाचन क्षेत्र…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

काश ! एक माइक जनता की तरफ भी होता…

आशीष सागर दीक्षित (फेसबुक वॉल से) '' तुम बतलाते रहे अपने काम के नजराने इस कदर अखिलेश, कि एक हम मैदान में जार-जार रो रहे थे... '' मुख्यमंत्री अखिलेश यादव…
और पढ़ें »

गौर करो… वहां एक रोटी की किल्लत है!

आशीष सागर दीक्षित बाँदा सदर की ग्राम पंचायत जमालपुर में ' अन्नदाता की आखत ' अभियान के तहत सामाजिक कार्यकर्ताओं ने गाँव के अतिगरीब बीस अनुसूचित जाति के लोगों को…
और पढ़ें »

साहेब, तुमका पूरा गाँव घूमबे का चाही !

आशीष सागर दीक्षित उत्तरप्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन के बांदा दौरे की तस्वीर।उत्तरप्रदेश सरकार के मुख्य सचिव अलोक रंजन बुंदेलखंड के दो दिन के दौरे से वापस अपने पंचम…
और पढ़ें »

‘घास की रोटी’ का जुमला यूं ही न उछालिए जनाब

आशीष सागर दीक्षित घास की रोटी की हक़ीकत की पड़ताल। सभी फोटो- आशीष सागर दीक्षित '' एक वो है जो रोटी बेलता है, एक वो है जो रोटी सेंकता है…
और पढ़ें »

‘गुलाबी’ खेतों का रंग ‘लाल’ हो रहा है…

बाँदा के जसपुरा से आशीष सागर दीक्षित गरीबी और आधे पेट रोटी खाकर अपने खेत की सूखी मिटटी को नम करने की जद्दोजहद में एक और अन्नदाता ने अपने ही खेत…
और पढ़ें »

‘वीरों की धरती’… लहूलुहान और वीरान क्यों ?

आशीष सागर दीक्षित उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में विभाजित बुंदेलखंड का इलाका पिछले कई सालों से प्राकृतिक आपदाओं का दंश झेल रहा है। भुखमरी और सूखे की त्रासदी से अब…
और पढ़ें »

बांदा के बंदों की सेहत का ‘रखवाला’ कौन?

आशीष सागर दीक्षित फोटो-आशीष सागर दीक्षित बेदम सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं से कराह रहा है बुंदेलखंड का पूरा क्षेत्र। बिना फार्मेसिस्ट के चल रहे मेडिकल स्टोर, गैर पंजीकृत नर्सिंग होम और झोलाछाप…
और पढ़ें »

गांव की हाट में वो लगा रहा है घरौंदे की बोली

आशीष सागर दीक्षित विकास यादव पुत्र मृतक सुरेश यादव गाँव, बघेलाबारी, बुंदेलखंड। पेशे से किसान। विकास यादव की मां भी जीवित नहीं है। इलाहाबाद के यूपी ग्रामीण बैंक, शाखा फतेहगंज में…
और पढ़ें »
12