राज व्यवस्था, जनता और गांधीवाद

सच्चिदानन्द सिन्हा प्रख्यात समाजवादी चिंतक हैं। इस वर्ष वे  अपनी जिंदगी के 90 वां वर्ष पूरा कर 91 वां वर्ष

और पढ़ें >

‘मर्ज’ बड़ा है… कभी वो, कभी हम… पर छोटी पहल में ‘हर्ज’ ही क्या?

ब्रह्मानंद ठाकुर बदलाव पाठशला के विद्यार्थी हैं रोहण ,गौरव ,शिल्की और नेहा। एक ही माता-पिता की पांच संतान। इनमें एक

और पढ़ें >

पहले हम पापा के साथ रहते थे, अब पापा हमारे साथ रहते हैं…

दयाशंकर आपके परिवार में कौन-कौन है. मैं पत्‍नी और दो बच्‍चे. अब परिवार का यह सामान्‍य परिचय हो गया है.

और पढ़ें >

मधेपुरा में विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस पर बच्चों ने भावुक कर दिया

बदलाव प्रतिनिधि बदलाव और ढाई आखर फाउंडेशन की साझा पहल को मधेपुरा के वरिष्ठ पत्रकार और शिक्षा के क्षेत्र में

और पढ़ें >

बादशाह खान के प्रति

– अरुण कमल बुढ़ापे का मतलब है सुबह शाम खुली हवा में टहलना बूलना बुढ़ापे का मतलब ताजा सिंकी रोटियाँ

और पढ़ें >

पत्रकार कुमार नरेंद्र सिंह से खुली बातचीत आज

बदलाव टीम के साथियों के साथ 15 अप्रैल को रूबरू होंगे वरिष्ठ पत्रकार कुमार नरेंद्र सिंह। मार्च महीने से बदलाव

और पढ़ें >

अप्रैल माह के अतिथि संपादक होंगे संजय पंकज

जाने – माने साहित्यकार , कवि और लेखक डाक्टर संजय पंकज होंगे बदलाव के अप्रैल के अतिथि सम्पादक। मुजफ्फरपुर जिले

और पढ़ें >

माय वेलेंटाइन, माय विलेज…. बदलाव की नई मुहिम

टीम बदलाव  गाजियाबाद के वैशाली सेक्टर-6 में लंबे अरसे बाद 11 फरवरी की सुबह 10 बजे बदलाव की मीटिंग हुई।

और पढ़ें >