अरुण प्रकाश बच्चे का मन गंगा की तरह पवित्र और निर्मल होता है। उसमें ना कोई छल होता है और ना ही कपट। उसके मन में जो कुछ चलता है…
और पढ़ें »