Tag archives for पुष्यमित्र

बिहार/झारखंड

कोसी में जल प्रलय के 11 बरस और डरे-सहमे लोग

फाइल फोटो पुष्यमित्र इन दिनों 2008 की कोसी बाढ़ के इलाके में घूम रहा हूं। यह इलाका नेपाल से सटा है और भीमनगर बराज के भी पास है। 2008 की…
और पढ़ें »
गांव के रंग

हक लिए आपको लड़ना ही होगा

पुष्यमित्र पारिवारिक वजहों से लगभग आधा अगस्त महीना सहरसा आते-जाते गुजरा। इस दौरान मैने महसूस किया कि सड़क मार्ग से सहरसा से मधेपुरा जाने में ठीक-ठाक हिम्मती लोग भी घबरा…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

भारतीय समाज का आईना है कुली लाइन्स और माटी माटी अरकाटी

पुष्यमित्र इन दोनों किताबों को एक साथ पढ़ना चाहिये और मुमकिन हो तो पहले कुली लाइन्स को पढ़ना चाहिये फिर माटी माटी अरकाटी को। मगर मेरे साथ दिक्कत यह हुई…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

जीरो बजट खेती और सरकारी सोच

पुष्यमित्र/बही खाता वालों ने किसानों से जीरो बजट खेती करने कहा है। उन्हें क्या जीरो बजट का हिन्दी नहीं मिला? और कुछ नहीं तो 'शून्य बही खाता' ही कर देते।…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

चमकी बुखार के खिलाफ जंग में शामिल साथियों के सुझाव की जरूरत

पुष्यमित्र हमारा अभियान लगभग खत्म हो गया है, हालांकि एक टीम लगभग डटी है। आज हिसाब करने सत्यम और सोमू आये थे। हिसाब हुआ तो पता चला कि हमें मेरे,…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘चमकी’ से लड़ने गांव-गांव तक पहुंच रहे ‘देवदूत

ब्रह्मानंद ठाकुर चमकी बुखार  की बीमारी गरीब महादलित परिवार के बच्चों के लिए इस बार काल बन  कर आई है। मुजफ्फरपुर जिले के गांवों में अबतक इस बीमारी से 150…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

चमकी बुखार : छोटी पहल, बड़ी मदद

पुष्यमित्र आनन्द दत्ता की जितनी भी तारीफ की जाये कम है। एक बेहतरीन पत्रकार, फोटोग्राफर, मैं शायद कभी इनसे ठीक से मिल नहीं पाया। रांची में रहते हैं। चमकी बुखार…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मुजफ्फरपुर के गांवों में हमारे साथी पहुंचा रहे जरूरी सामग्री

पुष्य मित्र मंगलवार को हमारी टीम मुजफ्फरपुर में कांटी के हरिदासपुर, छत्तरपट्टी गाँव में थी।लोगों को जरूरी सूचना के साथ-साथ ग्लूकोज, ओआरएस और थर्मामीटर भी दिया गया है। कुल 200…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘अकाल’ की दहलीज पर खड़ा बिहार

पुष्यमित्र इन दिनों लगभग पूरा बिहार भीषण किस्म के जलसंकट का सामना कर रहा है। दक्षिण बिहार की स्थिति तो अपनी भौगोलिक संरचना की वजह से नाजुक है ही, कल…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

क्यों विपक्ष और जनपक्ष हो जाना ही निष्पक्ष पत्रकारिता है?

पुष्यमित्रजब मैं लिखता हूं कि पत्रकार का काम शास्वत विपक्ष हो जाना है तो कई मित्र को आपत्ति होती है। उन्हें लगता है कि पत्रकारों को सरकार के काम काज…
और पढ़ें »
12