Tag archives for नाटक

परब-त्योहार

राजा शिव छत्रपति सिर्फ महानाट्य नहीं है!

सच्चिदानंद जोशी जो लोग राजा शिव छत्रपति को सिर्फ एक महानाट्य मान कर देखने जा रहे हैं, वो एक भारी भूल कर रहे हैं। राजा शिव छत्रपति एक नाटक से…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

श्मशान में जीवन का संगीत और सौंदर्य

पशुपति शर्मा 20 जनवरी, 2018 की उस दोपहर, राजधानी के मंडी हाउस इलाके में 'अलग मुल्क के बाशिंदे' से मुखातिब होने का मौका मिला। संगीत नाटक अकादमी के प्रेक्षागृह में…
और पढ़ें »
चौपाल

ग्वालियर के ‘गुंडे’ ने किसी रंगकर्मी से बदसलूकी नहीं की

अनिल तिवारी करीब 1962 के दौरान पिता जी का तबादला ग्वालियर हो गया और मेरा दाखिला उस समय के सर्वश्रेष्ठ स्कूल जो बिरलाजी द्वारा संचालित था और बिरला नगर में…
और पढ़ें »
आईना

‘खिड़की’ से झांकता लेखक और वो लड़की

संगम पांडेय विकास बाहरी के नाटक ‘खिड़की’ में कथानक के भीतर घुसकर उसकी पर्तें बनाने और खोलने की एक युक्ति है। यह मंच पर मौजूद मुख्य पात्र के भ्रम और…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

बात निकली तो है… कितनी दूर तलक पहुंची?

नीतू सिंह कुछ बातें ऐसी होती हैं, तो दिल की गहराइयों से छूकर निकलती हैं और बड़ी दूर तक अपनी छाप छोड़ती है। राजधानी दिल्ली के श्रीराम सेंटर में इस…
और पढ़ें »
आईना

रंगमंच पर साकार राजकमल चौधरी की ‘मल्लाह टोली’

संगम पांडेय नीलेश दीपक की प्रस्तुति ‘मल्लाह टोली’ एक बस्ती का वृत्तचित्र है। ‘कैमरा’ यहाँ ठहर-ठहरकर कई घरों के भीतर जाता है, और एक छोटे से परिवेश में तरह-तरह के…
और पढ़ें »
अतिथि संपादक

कनुप्रिया ने याद दिला दिए रामलीला वाले दिन

ब्रह्मानंद ठाकुर बात उन दिनो की है जब देश को आजाद हुए दस -बारह साल ही हुए थे। गांव सच्चे अर्थों में गांव था। आडम्बर, तड़क-भड़क और दिखावे से काफी…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

आजमगढ़ का शारदा टाकीज बना रंगमंच का नया ठीहा

संगम पांडेय आजमगढ़ के उजाड़ और खस्ताहाल शारदा टाकीज को अभिषेक पंडित और ममता पंडित ने रंगमंच के लोकप्रिय ठीहे में बदल दिया है। सिनेमा मालिकों से पाँच साल के…
और पढ़ें »
आईना

इंटरनेट के दौर में दो पीढ़ियों के दो अलग-अलग युग

संगम पांडेय जो दर्शक वही-वही नाटक देख-देख कर ऊब चुके हों उन्हें निर्देशक सुरेश भारद्वाज की प्रस्तुति ‘वेलकम जिंदगी’ देखनी चाहिए। इसमें परिहास का पुट देते हुए आज के मध्यवर्गीय…
और पढ़ें »

रायपुर में ‘मोचीराम’ की चीख और चुप्पी

टीम बदलाव "बाबूजी सच कहूं, मेरी निगाह में न कोई छोटा है न कोई बड़ा, मेरे लिए हर आदमी एक जोड़ी जूता है, जो मेरे सामने मरम्मत के लिए खड़ा…
और पढ़ें »