Tag archives for दुष्यंत कुमार

मेरा गांव, मेरा देश

दुष्यंत के शहर में, दुष्यंत की तासीर अभी बाक़ी है !

राजेश बादल एक सितंबर को दुष्यंत कुमार संग्रहालय में सबने दिल की गहराइयों से दुष्यंत को याद किया। रात देर तक सोचता रहा कि चालीस बरस पहले उन्होंने अपनी रचनाओं…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

हिंदी गजल के कोहिनूर दुष्यंत कुमार

डा. सुधांशु कुमार 'मैं जिसे ओढ़ता बिछाता हूं/वो गजल आपको सुनाता हूं ।' ओढ़ने बिछाने की शैली एवं सरल सपाट शब्दों द्वारा आम जनता से सीधा-सीधा संवाद करने वाले बीसवीं…
और पढ़ें »