प्रवीण कुमार दूबे के फेसबुक वॉल से साभार हज़ारों हाथ ऊपरवाले के सामने दुआ के लिए उठे तो दुआ कैसे क़बूल नहीं होती। मेरी पत्नी और उनके भाई दोनों की…
और पढ़ें »