Tag archives for ग्वालियर

आईना

रंगकर्म की दुनिया, निजी ज़िंदगी और स्त्री पात्र

अनिल तिवारी वरिष्ठ रंगकर्मी अनिल तिवारी अपने रंगकर्म के 50 बरस के अनुभवों को फेसबुक पर साझा कर रहे हैं। हम इस सीरीज को बदलाव के पाठकों के साथ साझा…
और पढ़ें »
आईना

लड़की खोजो अभियान में दर-दर भटका रंगकर्मी

अनिल तिवारी छोटे शहरों में नाटकों के लिये महिला कलाकारों की हरदम कमी रही है। इस भीषण कमी का सामना एक समय बीआईसी को भी करना पड़ा। यह बीआईसी के…
और पढ़ें »
चौपाल

प्रभात गांगुली ने क्यों छोड़ा ग्वालियर, ये किस्सा फिर कभी

अनिल तिवारी बीआईसी के मुख्य नाट्य निर्देशक थे सत्य पाल सोलंकी और श्री के सी वर्मा। सोलंकीजी एक नाट्य संस्था और चलाते थे जिसका नाम था- अभिनव कला केन्द्र। इसी…
और पढ़ें »
आईना

वीरान बिड़ला नगर में बिखरी ‘बुद्धू’ की कुछ यादें

अनिल तिवारी ग्वालियर के बिड़ला नगर में दिन बीत रहे थे। दादागीरी के साथ मेरी जिन्दगी में रंगमंच की अहमियत बढ़ती जा रही थी। यह नहीं था कि सब अच्छा…
और पढ़ें »
आईना

3 घंटे और 2 इंटरवल वाले नाटकों का दौर

अनिल तिवारी मेरे कुछ मित्रों ने एपीसोड 8 के बाद पूछा कि बीआईसी  किस तरह के नाटक किया करती थी? तो मैं सभी मित्रों को बता देना चाहता हूँ कि…
और पढ़ें »
आईना

फाइव स्टार सुविधाओं वाला शुरुआती रंगकर्म

अनिल तिवारी 1968 में 15 बर्ष की उम्र में 'टी पार्टी' नाटक में अभिनय करने के पश्चात मील एरिया में यह चर्चा गर्म होने लगी कि अनिल तिवारी नाटकों में…
और पढ़ें »
आईना

‘टी पार्टी’ से बन ही गये हम नचकैया

अनिल तिवारी 1968 में जब मेरी उम्र मात्र 15 वर्ष की थी तब तक मैं स्कूल के शिक्षकों के लिये सर दर्द का सबब बन चुका था। उस समय हमारे क्लास…
और पढ़ें »
आईना

जब मम्मी-पापा ने कर दिया घर-बदर

अनिल तिवारी अब थोड़ा घर की तरफ रुख करते हैं। इन सारी गतिविधियों से घरवाले बहुत तंग आ गये थे। आगरा के दो प्रतिष्ठित परिवारों का बड़ा लड़का, आखिर किस…
और पढ़ें »
आईना

फ्लाइंग किस पर बिग फाइट

अनिल तिवारी वरिष्ठ रंगकर्मी अनिल तिवारी की फेसबुक सीरीज को हम साथियों से साझा कर रहे हैं। इसमें एक तारतम्यता है। अगर आप शुरुआती हिस्से से न गुजरें हो तो…
और पढ़ें »
चौपाल

ग्वालियर के ‘गुंडे’ ने किसी रंगकर्मी से बदसलूकी नहीं की

अनिल तिवारी करीब 1962 के दौरान पिता जी का तबादला ग्वालियर हो गया और मेरा दाखिला उस समय के सर्वश्रेष्ठ स्कूल जो बिरलाजी द्वारा संचालित था और बिरला नगर में…
और पढ़ें »
12