Tag archives for ग्रामीण शिक्षा

चौपाल

सांगली का मादलमुठी शाला- एडुकेशन मॉडल के 8 दशक

शिरीष खरे "देश भर के गांवों में ऐसा स्कूल मिलना मुश्किल है।"- यह दावा है मादलमुठी शाला (सांगली, महाराष्ट्र) के मुख्य अध्यापक बालासाहेब नाथाजी आडके का। उन्हें अपनी बात पर…
और पढ़ें »
चौपाल

महाराष्ट्र के सांगली की प्राथमिक शाला की अपनी वेबसाइट

शिरीष खरे किसी एक छोटे गांव की प्राथमिक शाला की अपनी वेबसाइट होना विशेष भले ही न लगे, लेकिन क्या यह कल्पना की जा सकती है कि इस शाला की…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बहू अंजलि ग्रेजुएट हो गई!

मिथिलेश कुमार राय सवेरे जब मैं काम पर निकल रहा था, माँ बोली कि मिठाई लेते आना। कल शुक्रवार है। थान पर चढ़ाना है- पतोहू ग्रेजुएट हो गई। जरूर। यह…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

2 अक्टूबर से मुजफ्फरपुर में पहली बदलाव पाठशाला

आगामी गांधी जयंती- 2 अक्तूबर- को हम एक नया मिशन शुरू करने जा रहे हैं। समाज के '' उपेक्षित लेकिन अपेक्षित '' वर्ग के बच्चों तक शिक्षा की रोशनी पहुंचाने…
और पढ़ें »

भितिहरवा गांव, जिसने याद रखा कस्तूरबा का ‘ककहरा’

पुष्यमित्र पहली बार जिस खपरैल में गांधी का स्कूल शुरु हुआ था, उसे सुरक्षित रखा गया है। सभी फोटो-पुष्यमित्र लोगों ने इस स्कूल को जिंदा रखने के लिए तीन-तीन बार…
और पढ़ें »

पढ़ाई के लिए ऐसी लड़ाई! जय बीना, जय हिंद!

रूपेश कुमार बीना अपनी दुधमुंही बच्ची के साथ। फोटो-रुपेश कुमार बीना को इसलिए उसके ससुरालवालों ने घर से निकाल दिया कि वह पढ़ना चाहती थी, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी।…
और पढ़ें »