Tag archives for गुजरात

मेरा गांव, मेरा देश

गुजरात में गांधी के मायने समझने की एक कोशिश

धीरेंद्र पुंडीर गुजरात में दांडी यात्रा के बाद दिल्ली के रास्ते में आते वक्त सोच रहा था कि दांडी यात्रा में मैंने क्या हासिल किया। साबरमती आश्रम की ओढ़ी हुई…
और पढ़ें »
चौपाल

कांग्रेस मुक्त भारत का थका नारा और गुजरात के सबक

राकेश कायस्थ जिस दौर में चोर को चाणक्य और तड़ीपार को तारनहार का समानार्थी मान लिया गया है। उसी दौर में गुजरात की तीन राज्य सभा सीटों के लिए वोटिंग…
और पढ़ें »