Tag archives for गांधी

चौपाल

आंदोलनों में हिंसा तो होती है, चौरी-चौरा वाला दम नहीं दिखता

अमित ओझा 5 फरवरी 1922 गुलामी की बेड़ियों में जकड़ा देश अब अंगड़ाई लेने लगा था।अंग्रेज़ी हुकूमत के खिलाफ बापू के असहयोग आंदोलन की आग धीरे-धीरे पूरे मुल्क में फैलती…
और पढ़ें »
आईना

गांधी और अंबेडकर के बीच की कड़ी थे लोहिया

डॉक्टर भावना आजादी के सात दशक बाद भी हिंदुस्तान में जाति, धर्म की सियासत हो रही है। जिन नेताओं पर समाज को जोड़ने की जिम्मेदारी होती है. वही समाज में…
और पढ़ें »
चौपाल

दांडी बंगला और डाक बंगले का फ़र्क मिटने को है!

धीरेंद्र पुंडीर "नाम क्या है इसका।" एक वीरान से पड़े बंगले के अंदर खड़े होकर मैंने बंगले में बैठे उस युवा से पूछा। एक शर्माती सी मुस्कुराहट के साथ अशोक ने…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

पारदर्शी कैबिनेट में गांधी का चरखा और समय का चक्र

धीरेंद्र पुंडीर “ अगर हमने गांधी को विश्व की शांति के लिए एक मसीहा के रूप में जन-मन तक स्थिर करने में सफलता पाई होती तो United Nations का General…
और पढ़ें »
चौपाल

गांधी के 3 बंदर गायब हो गए… और उनके मंत्र?

धीरेंद्र पुंडीर ये तो गांधी जी की सत्याग्रह की जगह है जहां से गांधी जी ने सत्याग्रह किया है। वहां पर छुआछूत रख रहे तो पूरे भारत का क्या हाल…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

गुजरात में गांधी के मायने समझने की एक कोशिश

धीरेंद्र पुंडीर गुजरात में दांडी यात्रा के बाद दिल्ली के रास्ते में आते वक्त सोच रहा था कि दांडी यात्रा में मैंने क्या हासिल किया। साबरमती आश्रम की ओढ़ी हुई…
और पढ़ें »
आईना

अपने शहर में अजनबी गांधी

धीरेंद्र पुंडीर गांधी जी की यात्रा एक मानव के महामानव बनने की यात्रा है। आप उनसे सहमत या असहमत हो सकते हैं। गांधी जी के एक प्रयोग दांडी की यात्रा से…
और पढ़ें »
आईना

गांधी की ‘कर्मभूमि’ पर आज रो रही हैं ‘कस्तूरबा’

ब्रह्मानंद ठाकुर देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की चंपारण शताब्दी वर्ष मना रहा है । दिल्ली से लेकर बिहार तक प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री सभी बड़े-बड़े कार्यक्रमों में शिरकत कर रहे…
और पढ़ें »

चंपारण आंदोलन और गांधी के स्कूल का अनकहा पाठ

चंपारण में महात्मा गांधी ने निलहे प्लांटर्स के खिलाफ सत्याग्रह आंदोलन किया था, यह कहानी तो सबको ज्ञात है। मगर, उन्होंने सत्याग्रह ख़त्म होने के बाद छह माह रुक कर…
और पढ़ें »

वैष्णव जन तो तैणें कहिए… जे पीर पराई जाने रे

नोआखली में एक मुस्लिम बुजुर्ग के साथ बातें करते महात्मा गांधी। आज गांधी का जन्मदिन है। सत्य और अहिंसा का सबक याद करने का दिन। अहिंसा की डगर कठिन है…
और पढ़ें »