पशुपति शर्मा के फेसबुक वॉल से साभार
बिहार के मशहूर चित्रकार राजेंद्र प्रसाद गुप्ता की कृति

साइलेंसर वाली बंदूक
बड़ी ख़तरनाक होती है 
आपके आस-पास 
चलते-फिरते शख्स को
वो बुलाएंगे
और गोली मार देंगे
साइलेंसर वाली बंदूक से

कोई आवाज़ नहीं होगी
न बंदूक में
न आस-पास
कोई कुछ नहीं बोलेगा
सब बढ़ते जाएंगे
अपनी-अपनी मंजिल की ओर

कितनी ख़तरनाक हो चुकी हैं
ये मंजिलें
साइलेंसर वाली बंदूक का विस्तार
हो चुका है हर ओर
अब सिर्फ बंदूक में ही नहीं लगा
साइलेंसर
हम-आप 
सब हो गए हैं साइलेंसर युक्त
सफ़र और मंजिल 
सब है साइलेंसर युक्त

देखना कभी
सोचना कभी
कितने ख़तरनाक हैं
साइलेंसर वाली बंदूक की तरह 
साइलेंसर वाले इंसान।

-पशुपति शर्मा (1 मार्च 2019 को रचित)