एशिया और यूरोप में शिक्षा सेवा मुहैया कराने वाली सरस्वती ऑन लाइन डॉट कॉम ने वंचित वर्ग के लिए काम करने वाले डॉक्टर्स के लिए एलुमिनाई मीट का आयोजन किया । जिसमें बड़ी संख्या में saraswationline.com के पूर्व छात्रों ने हिस्सा लिया । ये सभी छात्र चीन की डाली यूनिवर्सिटी इंटरनेशनल एमबीबीएस प्रोग्राम में स्थानत की डिग्री लिए हुए हैं । इन सभी पूर्व छात्रों का उद्देश्य देशभर में वंचित वर्गों के लिए स्वास्थ्य सेवाएं सुलभ करना और उन्हें एक मंच मुहैया करना है । इस दौरान चीन के यून्नान प्रांत से आए डॉली यूनिवर्सिटी के वाइस प्रेसिडेंट ली शियाओबिंग की अगुवाई में आए एक डेलीगेशन ने भी इन छात्रों से मुलाकात की और उनके इस मिशन को आगे बढ़ाने में साथ देने की प्रतिबद्धता जताई ।

आपको बता दें कि सरस्वती Online.Com ने 2004 से अंतर्राष्ट्रीय एमबीबीएस कार्यक्रम के तहत 6400 से ज्यादा छात्रों को दाखिला दिलाया है। दिसंबर 2018 तक, 2500 से ज्यादा छात्रों ने विदेशी मेडिकल ग्रेजुएट परीक्षा (FMGE) पास कर हिंदुस्तान समेत  बांग्लादेश, नेपाल में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली से जुड़े हुए हैं ।  जबकि चीन के यून्नान प्रांत से संचालित डाली यूनिवर्सिटी एक बहु विषयक विश्वविद्यालय है, जो चीन के शीर्ष विश्वविद्यालयों में शुमार है । ऐसे में सरस्वती Online.Com और डाली यूनिर्सिटी के प्रतिनिधियों का मिलन सार्थक और सामाजिक बदलाव की दिशा में काम कर रहे डॉक्टरों के लिए एक नई दिशा देने वाला साबित हो सकता है । दिल्ली में आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता सरस्वती Online.Com के मुख्य संरक्षक डॉ. पार्थ सारथी गांगुली ने की और इसमें सरवती ऑनलाइन के 15 पूर्व छात्रों ने हिस्सा लिया।

इस बीच डाली यूनिवर्सिटी का ये डेलीगेशन रविवार को सरस्वती Online.Com के बेंगलुरु ऑफिस में भी विजिट किया और लोगों से मुलाकात की ।