यूपी में अब योगी ‘युग’

यूपी में अब योगी ‘युग’

टीम बदलाव

योगी आदित्यनाथ ने यूपी के 21वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली । योगी सरकार में कुल 46 मंत्री बनाए गए हैं। जिनमें 22 कैबिनेट, 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 15 ने राज्यमंत्री शामिल हैं। योगी मंत्रिमंडल में सूर्य प्रताप शाही को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।  शाही यूपी बीजेपी के अध्यक्ष रहे हैं और राज्य में बीजेपी के कद्दावर नेता माने जाते हैं । सुरेश खन्ना भी कैबिनेट मंत्री बन गए हैं। इन्हें RSS का करीबी माना जाता है। राजेश अग्रवाल भी कैबिनेट मंत्री बने हैं।  राजेश बरेली कैंट से विधायक  हैं और अमित शाह और योगी के करीबी माने जाते हैं। श्रीकांत शर्मा को भी योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। श्रीकांत शर्मा अमित शाह के करीबियों में शामिल हैं। योगी कैबिनेट में उनको भी जगह मिली  जो अपनी पार्टी में बगावत का झंडा बुलंद कर बीजेपी में शामिल हुए। स्वामी प्रसाद मौर्य ने कैबिनेट मंत्री की शपथ ली।  स्वामी ने बीएसपी छोड़कर बीजेपी का दामन थामा था।

कांग्रेस को अलविदा कहकर बीजेपी में शामिल हुई रीता बहुगुणा जोशी ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली। रीता बहुगुणा जोशी लखनऊ कैंट से विधायक हैं। यूपी में रीता एक महिला नेता होने के साथ साथ ब्राह्मण चेहरा भी हैं। लखनऊ मध्य से विधायक ब्रजेश पाठक भी योगी कैबिनेट में शामिल हो गए हैं। बीएसपी से बीजेपी में आए ब्रजेश पाठक लखनऊ में जाना पहचाना ब्राह्मण चेहरा हैं।लक्ष्मीनारायण चौधरी ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली। लक्ष्मीनारायण चौधरी भी बीएसपी से बीजेपी में शामिल हुए थे। ये मथुरा के छाता से विधायक हैं और जाट समुदाय से आते हैं। ब्रज क्षेत्र के जाट समुदाय पर इनकी अच्छी खासी पकड़ है।
दारा सिंह चौहान ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली। दारा सिंह मऊ की मधुबनी सीट से चुनाव जीते हैं और  2015 में बीएसपी छोड़कर बीजेपी में आए थे।इनके अलावा नंद गोपाल गुप्ता नंदी को भी बीजेपी सरकार ने कैबिनेट मंत्री बनाया है। नंद गोपाल चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे।

वहीं सुरेश राणा को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है। राणा  पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कद्दावर बीजेपी नेता हैं। उपेन्द्र तिवारी को भी राज्यमंत्री बनाया गया है। उपेन्द्र तिवारी दूसरी बार चुनाव जीते हैं और यूपी का भूमिहार चेहरा माने जाते हैं। अनिल राजभर भी राज्यमंत्री बन गए हैं। ये राजभर समुदाय में अच्छी पकड़ रखते हैं।
लखनऊ की सरोजनी नगर से जीत हासिल करने वाली स्वाति सिंह भी योगी सरकार में राज्यमंत्री बनीं हैं।  स्वाति बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे दयाशंकर सिंह की पत्नी हैं। दयाशंकर को मायावती को अपशब्द कहे जाने के कारण जेल जाना पड़ा था। जिसके बाद स्वाति सिंह ने मायावती को अपने सामने चुनाव लड़ने की चुनौती दी थी।
गुलाबो देवी को भी बीजेपी ने राज्यमंत्री बनाया है। इन्होंने यूपी की चंदौसी सीट से जीत हासिल की हैं और धोबी समुदाय में अच्छी पकड़ है। जयप्रकाश निषाद को भी योगी मंत्रिमंडल में राज्यमंत्री बनाया है। जयप्रकाश देवरिया के रुद्रपुर से विधायक हैं और मल्लाह समुदाय में अच्छी पकड़ रखते हैं। अर्चना पांडेय को बीजेपी ने राज्यमंत्री बनाया है। सपा के गढ़ कन्नौज में बीजेपी के ब्राह्मण चेहरे के रूप में जानी जाती हैं। मनोहर लाल पंथ मन्नू कोरी ने राज्यमत्री की शपथ ली।  इनकी  कोरी समुदाय में अच्छी पकड़ है। सुरेश पासी भी राज्यमंत्री बन गए हैं।सुरेश पासी अमेठी की जगदीशपुर सीट से पहली बार विधायक बने हैं। ये बीजेपी का दलित चेहरा हैं। योगी मंत्रिमंडल के ये वो खास चेहरे हैं। जिनपर आने वाले दिनों में पार्टी के एजेंड़े और सूबे में विकास की जिम्मेदारी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *