सांकेतिक फोटो-

राजधानी और गतिमान से भी तेज दिल्ली-चंडीगढ़ के बीच चलेगी पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन । यात्री 3.5 घंटे की सफर सिर्फ 2 घंटे में तय कर सकेंगे । भारतीय रेल और फ्रांस रेलवे की चंडीगढ़-नई दिल्ली के बीच प्रस्तावित हाई स्पीड रेलमार्ग पर 200 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेन चलाने की तैयारी हैं। चंडीगढ़ से दिल्ली 245 किलोमीटर है। सबसे पहले इसी रेलमार्ग हाई स्पीड ट्रेन चलाने का प्रोजेक्ट बनाया गया। इसके लिए फ्रांस रेलवे की मदद से रेलमार्ग पर 160 से 200 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेन चलाने के प्रोजेक्ट पर काम भी शुरू हो चुका है। फ्रांस रेलवे की टीम इसकी फिजिबिलिटी रिपोर्ट भी सौंप चुकी है।
दिल्ली-चंडीगढ़ रेलमार्ग के बीच 32 मेजर कर्व्स हैं। घुमाव को लेकर जो चिंता थी उसे दूर कर लिया गया है । फ्रांस रेलवे इन कर्व्स पर स्पीड मेंटेन करने के लिए घुमाव को मजबूत कर यहां पर हाई स्पीड ट्रेन चलाने की बात कह रहा है। इस रेलमार्ग को अपग्रेड करने पर करीब 10 हजार करोड़ खर्च होंगे। ट्रैक पर 200 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाने के लिए लगभग 46 करोड़ प्रति किलोमीटर खर्च आने की संभावना है। इस संबंध में फ्रेंच टीम डीटेल रिपोर्ट अक्टूबर तक सौंप देगी । शताब्दी एक्सप्रेस चंडीगढ़ से दिल्ली के बीच चलती हैं। जिनकी रफ्तार 110 किलोमीटर प्रतिघंटा है और दिल्ली पहुंचने में करीब साढ़े 3 घंटे का समय लगता है।