“मैं बंगाल दोबारा कार्यक्रमों में जरुर आउंगा और आपके साथ इस अराजक, संविधान विरोधी सरकार का डटकर मुकाबला करने के लिए आपके साथ सड़कों पर इस लड़ाई को आगे बढ़ाऊंगा।”

“मैं भारतीय जनता पार्टी और उन सभी समर्थकों का अभिनंदन करता हूं जो हर विपरीत परिस्थिति का सामना करते हुए इस अराजक, लोकतंत्र विरोधी, संविधान विरोधी सरकार का डटकर मुकाबला करके इस अभियान को आगे बढ़ा रहे हैं। पश्चिम बंगाल हमारे देश की बौद्धिक संपदा का स्थल रहा है, वह चाहे राम कृष्ण मिशन की परंपरा हो या चाहें स्वामी विवेकानंद जी द्वारा चलाई गई परंपरा। हमारे जनसंघ के प्रथम संस्थापक अध्यक्ष डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी इसी धरती से थे और यही नहीं अभी हाल ही में हमारी भारत की सरकार ने बंगाल के पुत्र और देश के पूर्व राष्ट्रपति आदरणीय श्री प्रणब मुखर्जी जी को भारत रत्न दिया है।
पूरे देश को बंगाल की धरती पर गौरव की अनुभूति होती है लेकिन बंगाल के अंदर आज जो कुछ भी चल रहा है उसे किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए। मैं आप सभी कार्यकर्ताओं का आह्वान करुंगा कि आप लोकतांत्रिक तरीके से टीएमसी की गुंडागर्दी वाली सरकार का मुकाबला कीजिये।”