लगातार बढ़ रहे सब्जियों के दाम के कारण लोगों का बजट बिगड़ रहा है। गैस सिलेंडर के महंगे होने के बाद सब्जियों के दाम में हो रहा उछाल आम आदमी के लिए मुसीबत बन गया है। इससे रसोई के स्वाद पर भी असर पड़ रहा है। हैरानी की बात तो ये है कि शहर में सब्जियों के दाम अलग हैं… एक ही शहर में टमाटर कहीं 60 रुपए बिक रहा है तो कहीं 80 रुपए…जिससे आम आदमी परेशान है। कई जगह तो दाम को लेकर ग्राहक और बिक्रेता के बीच बहस भी देखी जा रही है..। पहले 100-200 रुपये में एक परिवार के लिए पर्याप्त सब्जियां हो जाती थीं… लेकिन अब ये मार्केट जाने से पहले ही तय करना पड़ रहा है कि सब्जियों में क्या खरीदें और क्या नहीं …। यूपी में जब प्याज और टमाटर के दाम ने उड़ान भरी तो लोगों ने सरकार से महंगाई पर ब्रेक लगाने की मांग की… सरकार ने भी इस बात को महसूस किया..नतीजा दाम को कंट्रोल करने के लिए यूपी सरकार ने लखनऊ में सब्जी की दुकान खोल दी है । जो टमाटर लखनऊ लखनऊ के खुदरा बाजार में 60 से 80 रुपए किलो बिक रहा है उसे सरकारी दुकान पर आप सिर्फ 32 रुपए में खरीद सकते हैं, वहीं 50 रुपए प्रति किलो प्याज को सरकार 30 रुपए किलो के भाव से बेच रही है । शुरू में टमाटर और प्याज के 6 स्टॉल लगाए गए हैं…बाहरी इलाकों में 1-1 फुटकर स्टॉल, सीतापुर रोड और दुबग्गा मंडी में सरकार स्टॉल । लोहिया पार्क, आलमबाग उद्यान और सचिवालय के पास सरकार सब्जी की दुकान । आगे भी शहर में सरकार जगह-जगह और स्टॉल लगवाकर सस्ता प्याज और टमाटर उपलब्ध करवाएगी।

इस महीने टमाटर का औसत थोक बाजार भाव 2500 रुपये से 3000 रुपये प्रति क्विंटल है लेकिन फुटकर बाजार में टमाटर अलग अलग रेट पर बिक रहा है… गाजियाबाद में कहीं 60 रुपए किलो मिल रहा है तो कहीं 70-80 रुपए प्रति किलो । वहीं प्याज का औसत थोक बाजार भाव 2600 रुपये से 2800 रुपये प्रति क्विंटल है… लेकिन बाजार में प्याज का दाम 50 के पार चला गया है..।

गाजियाबाद, नोएडा, कानपुर के शहरी भी लखनऊ की तर्ज पर सरकारी स्टॉल लगाने की मांग कर रहे हैं । ताकी उनका बजट भी ठीक रहे । वाराणसी में भी प्याज और टमाटर के दाम 50 रुपए प्रति किलो से ज्यादा है… वहां के लोग भी परेशान हैं । टमाटर, आलू, प्याज, भिंडी, लौकी, नेनुआ और गोबी के दाम भी बढ़े हैं। सीएम योगी ने पिछले दिनों सूबे की सब्जी मंडियों में सब्जियों के बाजार भाव की समीक्षा की । बैठक में प्याज और टमाटर के औसत बाजार भाव में काफी अंतर मिला.. इस पर सीएम योगी ने कार्रवाई के निर्देश दिये, जिसके बाद से सब्जियों के दाम पर रोक लगाने के लिए अधिकारी सक्रीय हुए हैं। सरकार भी स्टॉल लगाकर सब्जियां बेच रही हैं… लेकिन लोगों का सवाल है कि कुछ स्टॉल से जनता को राहत नहीं मिल सकती… हर शहर में स्टॉल लगाने होंगे.. ।