बजट में गांवों और किसानों को क्या मिला ?

बजट में गांवों और किसानों को क्या मिला ?

फ़ाइल

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज देश का आम बजट पेश किया । मिडिल क्लास को थोड़ी राहत मिली तो गांव और किसान के लिए वादों की बरसात भी हुई । हालांकि कर्ज में डूबे किसानों को उबारने के लिए कोई ऐलान तो नहीं हुआ बल्कि और कर्जदार बनाने का विकल्प तैयार रखा गया । फसल बीमा 30 फीसदी से बढ़ाकर 40 फीसदी किया गया है । गांव में शिक्षा और स्वास्थ्य कैसे बेहतर हो इसपर तो बजट में ज्यादा कुछ जिक्र नहीं हुआ हालांकि गांव को डिजिटल बनाने पर जोर दिया जा रहा है ।

बजट में किसको क्या मिला ?

One thought on “बजट में गांवों और किसानों को क्या मिला ?

  1. कभी किसी सरकार नें किसानों को कुछ दिया जो यह सरकार देगी ?मैने तो कोई उम्मीद ही नहीं पाली थी।बेबसी में जी रहे/मर रहे किसानो को बेबसी ही मिली। आश्वासनों का खजाना और वादों का पिटारा सभी पूर्वर्ती सरकारें खोलती आयी हैं ,इसने भी खोला है।बहुत पहले कहा था —केसीसी पर ब्याज में तीन प्रतिशत की छूट देंगे सो आज तक नहीं दिया।इस साल धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1470 रूपये क्विन्ट निर्धारित हुआ ।मुजफ्फरपुर जिले मे 1लाख 32हजार टन धान की खरीद का लक्ष्य था और खरीदा गया मात्र 12हजार 120 टन ।यह भी सीधे उन किसानो से नही , विचौँलिए व्यापारी से जिन्होने नोटबंदी की मार से परेशान हो कर व्यापारी को हजार रूपये क्विंटल के भाव में धान बेंचा था। भाई इन नेताओं और धन्नासेठों के चेहरे पर लाली किसानो के चेहरे पर छायी मुर्दनी से ही आती है।बीज में लूटो ,खाद में लूटो ,सिंचाई वास्ते डीजल में लटो और इससे भी मन न भरे तो खून पसीने से उपजायी फसल को ही लूट लो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *