बिहार चुनाव- जमीनी मुद्दों की रिपोर्टिंग के लिए फेलोशिप

बिहार चुनाव- जमीनी मुद्दों की रिपोर्टिंग के लिए फेलोशिप

media

इस बिहार चुनाव में जमीनी मुद्दों की रिपोर्टिंग करने वाले स्वतंत्र पत्रकारों का समर्थन करने के लिए सेंटर फ़ॉर रिसर्च एन्ड डायलॉग ट्रस्ट ने फेलोशिप देने का फैसला किया है।

फेलोशिप का विषय- इस चुनाव में बिहार से जुड़े जमीनी मुद्दों पर कितनी बात हो रही है। यह मुद्दा बाढ़, चमकी बुखार, पलायन, खेती का सँकट, रोजगार, शिक्षा और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं से सम्बंधित हो सकता है। इसके तहत की जाने वाली स्टोरी में हम मुद्दों के बारे में विस्तार से समझना चाहते हैं और उम्मीदवारों और मतदाताओं का उसके प्रति क्या नजरिया है और चुनाव में वह मुद्दा कितना प्रभावी है यह जानना और लोगों के सामने लाना चाहते हैं।

फेलोशिप की संख्या- अभी हम फिलहाल दो पत्रकारों को अपने संसाधन से सहयोग करने की स्थिति में हैं और अगर हमें लोगों से आर्थिक सहयोग मिला तो यह संख्या बढाई भी जा सकती है। कोई भी व्यक्ति खुद अकेले या अन्य लोगों के साथ मिलकर इसी तरह एक या अधिक पत्रकार का फेलोशिप स्पोंसर कर सकता है। अगर वे चाहें तो अपने किसी प्रिय व्यक्ति के नाम पर इस फेलोशिप का नाम रख सकते हैं।

फेलोशिप की राशि- 20 हजार रुपये प्रति पत्रकार।

फेलोशिप में स्टोरी की अपेक्षित संख्या- 5 से 8

माध्यम- लिखित, रेडियो और ओडियो विजुअल तीनों माध्यम के लोग आवेदन कर सकते हैं।

फेलोशिप के दौरान पुष्यमित्र व्यक्तिगत रूप से फेलो साथियों का सहयोग करेंगे।

आवेदन की प्रक्रिया- आवेदक को एक पन्ने का फेलोशिप प्रस्ताव और अपना biodata मेल करना पड़ेगा। फेलोशिप प्रस्ताव में उन्हें बताना होगा कि वे किस मुद्दे पर, किस इलाके में यह फेलोशिप करेंगे। उसकी प्रक्रिया क्या होगी। आवेदन के लिए ईमेल पता है- pushymitr@gmail.com है। जैसा कि पहले बताया जा चुका है, आवेदक सिर्फ स्वतंत्र पत्रकार हो सकते हैं।

आवेदन की अन्तिम तिथि- 9 अक्टूबर, 2020

फेलोशिप की घोषणा- 10 अक्टूबर, 2020

तो आपके आवेदन का इन्तजार है। फेलो की संख्या बढाने के लिए सहयोग करने वाले साथी सम्पर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *