Archives for यूपी/उत्तराखंड - Page 2

मेरा गांव, मेरा देश

7 मार्च को शादी थी… मेजर ने जल्द घर लौटने का किया था वादा

7 मार्च को होनी थी मेजर चित्रेश बिष्ट की शादी। मेजर चित्रेश बिष्ट की 7 मार्च को शादी थी। एक युवा जिसने सपने देखने भी शुरू नहीं किये थे, आतंकवाद…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘सिंह’ अगर मुलायम हो जाए तो…

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मुलायम सिंह यादव ने संसद में बड़ा बयान दिया है। कहा कि मैं चाहता हूं नरेंद्र मोदी दोबारा पीएम बनें । अपने यहां नाम की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

सिर्फ नेता नहीं, कांग्रेस को नीति भी बदलनी होगी

वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश के फेसबुक वॉल से साभार प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने का तात्कालिक तौर पर पूर्वी उत्तरप्रदेश में कांग्रेस की स्थिति पर जितना असर पड़ेगा, उससे…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

देश की सेहत सुधारने के लिए एक डॉक्टर का अनशन

अरुण यादव फेसबुक पर सर्च करते वक्त अचानक एक तस्वीर पर नजर टिक गई । जिसमें एक शख्स हाथ में तख्ती लिए हुए है और उस पर लिखा है हर…
और पढ़ें »
यूपी/उत्तराखंड

मसूरी की नहीं, विधायक को जघन्य अपराध करने वाले की है चिंता !

बाएं- बीजेपी नेता गणेश जोशी और डीपी यादव की तस्वीर। उत्तराखंड के नेता खोखले हैं ये बात एक बार फिर गणेश जोशी ने साबित कर दी. विवादों को साये की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

एक ओर योगी की बात… दूसरी ओर गायों की लाश

2017 में जब यूपी की सत्ता बदली और एक मंदिर का महंत, गाय को प्यार करने वाला सीएम की कुर्सी पर बैठा तो लगा कि गायों के अच्छे दिन जल्द…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘ईमानदार डीएम’ के आवास पर CBI छापा

सड़क निर्माण में गड़बड़ी पर ठेकेदार और जूनियर अधिकारियों को डांटते हुए। साल 2014 में वो तस्वीरें खबरों में छा गई थीं। एक डीएम की ईमानदारी और भ्रष्टाचार के खिलाफ…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

राम नाम की ‘सियासी माया’ और आस्था की जमीनी हकीकत

निखिल दुबे के फेसबुक वॉल से साभार समाज और सियासत की NO PARKING में खड़े कर दिए गए हैं भगवान। एक मासूम और सफाई कर्मी के लिए इनमें और कूड़े…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

किसान आंदोलन और मीडिया की माया

टीम बदलाव पिछले 6 महीने में देश का अन्नदाता तीसरी बार लोकतंत्र के मंदिर पर मत्था टेकने आ चुका है । कभी उसका स्वागत लाठियों से हुआ तो कभी गालियों…
और पढ़ें »
चौपाल

ग्रामीण भारत की बदहाली और आर्थिक विकास का लालीपॉप

शिरीष खरे भारत में ग्रामीण और शहरी अंचल के लिए निर्धनता का निर्धारण अलग-अलग तरह से होता है। एक आंकड़े के मुताबिक भारत के 75 प्रतिशत निर्धन गांवों में रहते…
और पढ़ें »