Archives for बिहार/झारखंड - Page 3

बिहार/झारखंड

छपरा की बेटी का दर्द … ओ री चिड़ैया

अनीश कुमार सिंह मैं बिहार के छपरा की बेटी हूं। मेरा दम घुट रहा है। एक-एक सांस मुझ पर भारी पड़ रही है। उस मनहूस दिन को याद करके मैं…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

घोंचू उवाच- जैसी बहे बयार ,पीठ तब तैसी दीजिए

ब्रह्मानंद ठाकुर घोंचू भाई खेती - पथारी का काम निबटा कर शाम होते ही मनकचोटन भाई के दरबाजे पर जुम गये। मनकचोटन भाई का दरबाजा  टोले के बुजुर्गों का एक…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना… रे कबीरा, न बदला जमाना

श्वेता जया पांडे अगर आप कबीर को एक महान शख्सियत बताते हैं और उनकी महान ज़िंदगी से कुछ सीखने की सीख देते हैं तो सबसे पहले आपको ये सोचना होगा…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘द्रव्य’ दुकान और मोहल्ले की अटूट दोस्ती

सांकेतिक तस्वीर- साभार अमित वीरेन नंदा किस्सागोई के पहले अंक में आपने पढ़ा पति-पत्नी के बीच की मीठी नोकझोंक जिसमें प्यार भी रहता है और टकराव भी । कैसे जब…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

हमारे दिलों का कोना-कोना नाप चुके हैं सागर बाबा

सुबोध कांत सिंह बात तक की है जब मैं चौथी कक्षा में पढ़ता था। स्कूल में गर्मी की छुट्टी पड़ी तो मेरे चाचा मुझे अपने गांव लेकर आए। इससे पहले…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘अवसरवाद’ के सियासी समर में ‘सुशासनबाबू’ का चक्रव्यूह

पुष्य मित्र हाल में हुए उपचुनाव में बीजेपी की हार और विपक्षी दलों के उम्मीदवारों की जीत से बिहार अछूता नहीं रहा और ना ही नीतिश इस हार जीत के…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बच्चों के चेहरों पर देखे हमने पुस्तकों के ‘मंजर’

टीम बदलाव पुस्तकों के बीच बच्चे और अभिभावक। पके हुए आमों को देखकर जो सुख होता है, उससे कहीं ज्यादा सुख मंजरों से लदे पेड़ों को देखकर होता है। उम्मीद…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

हुकूमदेव नारायण यादव के गोद लिए गांव दामोदरपुर का हाल

जूली जयश्री  टीम बदलाव ने मई महीने में आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिए गांवों की स्टोरी  पर फोकस करने का फैसला किया है। इसके लिए ‘आदर्श गांव पर आपकी रपट’ सीरीज…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार के नव-उदय की स्ट्रेटजी बनी, असर भी दिखेगा

बदलाव प्रतिनिधि, पटना   8-9 वर्ष पूर्व पूर्णिया की एक दुकान पर बैठे-बैठे कुछ युवाओं ने बेहद अनौपचारिक सी मुलाकात में एक शुरुआत की थी, तो उन्हें भी ये एहसास…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

जब सेल्युकस को पर्दे के पीछे गिफ्ट में मिला पार्कर पेन

ब्रह्मानंद ठाकुर बात 1965 की है। मैंने गांव के बेसिक स्कूल से सातवीं कक्षा पास कर उसी कैम्पस के सर्वोदय हाई स्कूल की 8 वीं कक्षा मे दाखिला लिया था।…
और पढ़ें »