Archives for बिहार/झारखंड - Page 12

खुद खाली पेट और वो चलाते हैं ‘एक रोटी अभियान’

पुष्यमित्र दुनिया अच्छे लोगों से खाली नहीं हुई है। दिलचस्प बात यह है कि आप महानगर छोड़ कर बाहर निकलें आपको ऐसे लोग कदम-कदम पर मिल जाते हैं। ऐसे ही…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

सुनिए प्रेमचंद, आधुनिक होरियों की पीड़ा गाथा

ब्रह्मानंद ठाकुर प्रख्यात उपन्यासकार कथाकार मुंशी प्रेमचंद के गोदान का होरी आज भी भारत के खेत -खलिहानो में जिन्दा है। अपने जिन्दा रहने की कीमत वह खेतों में माथा और…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

नोटबंदी की ‘सियासी मंडी’ में अन्नदाता की सुध किसे ?

ब्रह्मानंद ठाकुर  किसानों के खून-पसीने से उपजाई गयी फसल जब कौडियों के मोल बिकने लगे तो उनका दर्द समझना सब के लिए आसान नहीं होता। कभी-कभी जीवन में बहुत कुछ…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

एक और हादसा… हादसे की लिस्ट में दर्ज कर भूल जाइए!

कानपुर ट्रेन हादसे की शिकार बच्ची । परिजनों की तलाश । सौम्या सिंह रेल दुर्घटना, ये शब्द कान में जाते ही सबसे पहले क्या याद आता है आपको ? अच्छा…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

किराये की कोख के लिए हो रही झारखंडी किशोरियों की तस्करी

पुष्यमित्र चित्र-गौरव पटना के एक संस्थान में सरिता(परिवर्तित नाम) बैठी हैं. उसकी आंखें डबडबायी हुई हैं. वह उस खबर का सामना करने के लिए खुद को तैयार नहीं पा रही…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बहन पर भाई के भरोसे की जीत और सामा चकेवा

पुष्यमित्र एक चुगलखोर व्यक्ति राजा कृष्ण से कहता है कि तुम्हारी पुत्री साम्बवती चरित्रहीन है। उसने वृंदावन से गुजरते वक्त एक ऋषि के साथ संभोग किया है। कृष्ण अपनी पुत्री…
और पढ़ें »
चौपाल

किसानों का दर्द तो समझो ‘सरकार’

ब्रह्मानंद ठाकुर इन दिनों पूरा हिंदुस्तान लाइन में खड़ा नज़र आ रहा है । शहर से लेकर गांव तक एक जैसी तस्वीर देखने को मिल रही है ।  ऐसा लग…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

बिहार के संझौली में एक शौचालय ‘सम्मान’ का

चंदन शर्मा के फेसबुक वॉल से  किसी मकसद को अंजाम देने के लिए किसी का मुंह ताकने से बेहतर है खुद हिम्मत कर आगे बढ़ना। कुछ ऐसी ही मिसाल पेश…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

ये छठ जरूरी है!

पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से आज बहन अनिता कुमारी ने दिल्ली की छठ के बारे में बड़ी दिलचस्प जानकारी दी। उसने कहा कि पिछले कुछ साल से बिहार से कुछ लोग…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

छठ पर्व पर ‘सरिसवा’ नदी को बचाने की सौगन्ध

कुणाल प्रताप सिंह बिहार में हर तरफ छठ की छटा बिखरी है । नदी किनारे बने घाट सजे हुए हैं। शुक्रवार को नहाय-खाय के साथ छठ की औपचारिक शुरूआत हुई…
और पढ़ें »