Archives for सुन हो सरकार - Page 3

सुन हो सरकार

योगीजी, बेटी बचाएंगे या विधायक?

फोटो साभार- उन्नाव गैंगरेप और न्यायिक हिरासत में मौत को समझने के लिए आपको क्रमवार घटनाओं पर नजर डालनी होगी । 3 अप्रैल 2018 को मारपीट और न्यायिक हिरासत में…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

रामविलास के गोद लिए गांव मलाही में क्या बदला?

मौजूदा एनडीए सरकार के 4 साल के कार्यकाल के दौरान ग्रामीण विकास को लेकर कई तरह के वादे किए गए, सपने बुए गए। प्रधानमंत्री मोदी ने कई मंचों से गांवों…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

शिक्षा पर बाज़ार के कब्जे की स्वायत्‍तता

डॉक्टर गंगा सहाय मीणा देश के तमाम अच्‍छे डॉक्‍टर, इंजीनियर, प्रोफेसर, कुलपति, एकेडमिशियन, आलोचक, प्रशासनिक अधिकारी, वैज्ञानिक इसी देश के सरकारी उच्‍च शिक्षण संस्‍थानों से निकले हैं। संख्‍या में कम ही सही,…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

किसान मेला- वीआईपी लॉन्ज के लिए 3 किलोमीटर पैदल मार्च

अरुण यादव कृषि उन्नति मेला 16 से 18 मार्च पूषा कृषि अनुसंधान केंद्र में आयोजित हुआ पिछला हफ्ता देश के किसानों के लिए काफी अहम रहा। एक तरफ महाराष्ट्र में…
और पढ़ें »
चौपाल

विद्रोह समाप्त, अब विद्रोह का माफी-राग!

धीरेंद्र पुंडीर एक के बाद एक माफी का सिलसिला चल निकला। याद है कि इस शख्स ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी लेकिन कोई मंत्रालय नहीं क्योंकि देश भर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

अन्नदाता के इस आंदोलन को सलाम!

विकास मिश्रा महाराष्ट्र के इस किसान आंदोलन ने बहुत कुछ सिखाया है। पहला तो ये कि हक़ के लिए आंदोलन कैसे करें। 40 हजार से ज्यादा किसान थे, लेकिन न…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

आधी आबादी के हक़ की संघर्ष गाथा

आओ करें मंथन- कहीं हमसे कोई चूक तो नहीं हो रही!  ब्रह्मानन्द ठाकुर 8  मार्च का दिन दुनिया में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज से…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

त्रिपुरा में छद्म वामपंथ की पराजय

 ब्रह्मानन्द ठाकुर त्रिपुरा में बीजेपी की जीत का जश्न भारत के पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा में  वामपंथ का गढ़ ध्वस्त हो गया। बंगाल में सत्ता हाथ से खिसकने के बाद त्रिपुरा…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

लोकतंत्र की काग़ज़ी खूबसूरती ज़मीन पर कब उतरेगी- उर्मिलेश

पशुपति शर्मा "हिंदुस्तान जितना खूबसूरत लोकतंत्र काग़जों पर है, उतना खूबसूरत लोकतंत्र ज़मीन पर नहीं दिखता। जबकि यूरोप के कई मुल्क ऐसे हैं जहां कोई लिखित संविधान नहीं है, जहां…
और पढ़ें »
चौपाल

सांगली का मादलमुठी शाला- एडुकेशन मॉडल के 8 दशक

शिरीष खरे "देश भर के गांवों में ऐसा स्कूल मिलना मुश्किल है।"- यह दावा है मादलमुठी शाला (सांगली, महाराष्ट्र) के मुख्य अध्यापक बालासाहेब नाथाजी आडके का। उन्हें अपनी बात पर…
और पढ़ें »