Archives for सुन हो सरकार - Page 23

चौपाल

नहीं मिल रही मुद्रा, कैसे बढ़ेगा कारोबार ?

सत्येंद्र कुमार यादव नमस्कार, मैं अपना डी जे साउन्ड का काम शुरु करना चाहता हूँ । इसमें कुल खर्च लगभग 5 लाख रुपये है । इसके लिये मुझे लोन की…
और पढ़ें »
आईना

भीड़ हो तब भी डरो, भीड़ न हो तब भी डरो

भारती द्विवेदी बेंगलुरु की दोनों घटनाएं किसी भी संवेदनशील इंसान को हिला कर रख देती है। अब दिल्‍ली की घटना का शर्मनाक सच भी सामने आ रहा है। लड़कियां कितनी…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

‘समाजवादी घराने’ में फ़ाइनल फ़ाइट की इनसाइड स्टोरी

  टीम बदलाव समाजवादी पार्टी दो फाड़ की दहलीज पर खड़ी है । मुख्यमंत्री अखिलेश यादव बगावत कर चुके हैं । मुलायम सिंह यादव अपने बेटे को अपनी पार्टी से…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

मोहलत… थोड़ी है, थोड़े की जरूरत है!

टीम बदलाव हिंदुस्तान की जनता 50 दिन बाद भी कतार में खड़ी है । प्रधानमंत्री मोदी ने वादा किया था कि 50 दिन का वक्त दीजिए भ्रष्टाटार, आतंकवाद, कालाधन खत्म…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

8 घंटे की नौकरी और पगार महज 42 रुपये

ब्रह्मानंद ठाकुर मुंशी प्रेमचंद की कहानी सद्गति का किरदार घासीराम हो या फिर रामवृक्ष बेनीपुरी के ‘कहीं धूप कहीं छाया’ का 'बाबू साहेब’ दोनों तत्कालानी सामंतवादी सोच के वाहक थे…
और पढ़ें »
दूसरे सूबे की ख़बरें

देश में कब महफूज होंगी बेटियां ?

कीर्ति दीक्षित निर्भया के माता पिता चार साल बाद भी बेटी को न्याय दिलाने के लिए  सुप्रीम कोर्ट के चक्कर काट रहे हैं बस अब उनके साथ ना कोई नेता…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

किराये की कोख के लिए हो रही झारखंडी किशोरियों की तस्करी

पुष्यमित्र चित्र-गौरव पटना के एक संस्थान में सरिता(परिवर्तित नाम) बैठी हैं. उसकी आंखें डबडबायी हुई हैं. वह उस खबर का सामना करने के लिए खुद को तैयार नहीं पा रही…
और पढ़ें »
महानगर

कतार देखो, धार देखो… ATM पर तैयारी अधूरी है!

कुमकुम सिंह के फेसबुक वॉल से आज सुबह 10 बजे से 3-4 बैंकों के चक्कर काट कर आई हूं। इतनी भीड़ कि शायद ही 2-3 घंटे में नंबर आता। इतना…
और पढ़ें »
ख़बरों का कोना

अखिलेश सीख लें ‘निंदक नियरे राखिए’ की अदा

प्रियंका यादव यूपी में जैसे-जैसे ठंड बढ़ रही है सियासी पारा चढ़ रहा है । कोई विकास रथ लेकर निकला है तो कोई परिवर्तन रथ पर सवार हो चुका है…
और पढ़ें »
गांव के नायक

SP कुमार आशीष ने ‘दीपक’ सी जिद ठानी है!

दीपों के पर्व की रौनक हर तरफ बिखरी है। समाज का हर तबका अपने-अपने अंदाज में दीवाली मना रहा है। समाज के कुछ ऐसे दीपक भी हैं, जिसकी रोशनी से…
और पढ़ें »